Breaking News

टीआई वीरेंद्र सिंह पवार ने की सोशल मीडिया की अपील पर तुरंत कार्यवाही

टीकमगढ़। शहर में पटाखा की कर्कश आबाज निकालते बुलेट वाहन से आमजन बुरी तरह से पीड़ित व परेशान था। राहगीरों के बगल से तेज गति से निकलते हुए बुलेट वाहन जब तेज ध्वनि में पटाखा की कर्कश आबाज निकालते थे तो कमजोर दिल बालो के लिए जानलेबा साबित हो सकती थे। इसकी शिकायत जागरूक लोगो ने सोशल मीडिया के माध्यम से प्रशासन से की थी।
इसी प्रकार शहर में बागेश्वर धाम की नेमप्लेट लगी हुई एक स्विफ्ट कार कौतुहल व आतंक का पर्याय बनी हुई थी क्योंकि ये कार बहुत ही तेज स्पीड में निकलती थी जिससे आस पास चल रहे वाहन सबारो को दुर्घटनाओं का अंदेशा बना रहता था। लेकिन लोग इस कार पर बागेश्वर धाम की नेमप्लेट देखकर श्रद्धावश शांत रह जाते थे। लेकिन जब कार का आतंक ज्यादा ही बढ़ने लगा तो लोगो का धैर्य जबाब दे गया और लोगो ने सोशल मीडिया के माध्यम से इस स्विफ्ट कार की शिकायत भी प्रशासन से की। अब कार पर लगी नेमप्लेट की भी जांच की जाएगी कि कार मालिक का वागेश्वर धाम संस्थान से कोई संबन्ध है या नही।
सोशल मीडिया सहित सभी माध्यमो से कोतवाली क्षेत्र में नजर रखने बाले कोतवाली प्रभारी वीरेन्द्र सिंह पवार ने जब लोगो की ऊक्त शिकायतें देखी तो आज विशेष कार्यवाही के तहत तीन बुलेट वाहन व एक स्विफ्ट कार को पकड़कर एमवी एक्ट के तहत कार्यवाही की।
कोतवाली टीआई वीरेंद्र सिंह पवार ने बताया कि लोगो की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए तीन ऐसी बुलेट पकड़ी हैं जिनमे पटाखे की आवाज निकालने बाले साइलेंसर लगे थे। इन बुलेट बाहनो से उक्त साइलेंसर हटवाये गए और इन पर एमवी एक्ट के तहत कार्यवाही की गई। जिनमे बुलेट क्रमांक एमपी 36 एमएन 6365, एमपी 36 एमएस 1761, एबं एमपी 15 एमयू 8571 वाहन शामिल हैं।
इसके अलावा तेज गति की बजह से आतंक का पर्याय वनी स्विफ्ट कार वाहन क्रमांक यूपी 80 डीजे 0173 को भी पकड़कर एमवी एक्ट के तहत कार्यवाही की गई। साथ ही इस बात की भी जांच की जा रही है कि कार पर लगी बागेश्वर धाम नाम की नेमप्लेट सही है या फर्जी लगाई गई है

कोई टिप्पणी नहीं