Breaking News

महावैक्सीनेशन अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़कर लिया हिस्सा


पृथ्वीपुर-महा वैक्सीनेशन अभियान के पांचवे दिन सोमवार को लोगों में टीका लगवाने को लेकर उत्साह बना रहा। और बढचढ कर परिवार सहित वेक्सीनेन सेंटर पर पहुचकर वेक्सीन लगवा रहे है। 

शासकीय माध्यमिक कन्या शाला ज्यौरामौरा में बने  कोविड सेंटर पर सुबह से लोगों की भीड़ एकत्र होना शुरू हो गई थी। विगत तीन माह से जारी वैक्सीनेशन में आम जनता की रुचि 21 जून से पूर्व एकदम नकारात्मक थी। और तरह तरह की अफवारह फैलने से लोग वेक्सीनेन नही करा रहे थे। और वैक्सीनेशन को लेकर लोगों के मन में डर बना हुआ था।  जब से ग्राम पंचायत के पंचायत सचिव , ग्राम रोजगार सहाकय  के साथ साथ आंगनवाडी कार्यकर्ता ने ग्रामीणो के घर घर जाकर कोरोना के टीके के बारे में समझाइस दी। और लोगो को कोरोना टीका लगवाने के लिये जागरूक किया।  सोमवार को 300 लोगों को वैक्सीन टीका लगाने का लक्ष्य निर्धारित था जबकि 330 लोगों ने वैक्सीन का टीका लगवाया। ग्रामीणों का सक्रिय सहयोग मिलने से टीकाकरण के लिए लोग घरों से निकलकर टीकाकरण केन्द्र पहुंचे और महा वैक्सीनेशन महा अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है।  महा वेक्सीनेन अभियान के तहत रामकृपाल द्विवेदी, मुकेश विश्वकर्मा, राहुल जैन, नीरज सेन, अखिलेश विश्वकर्मा, कल्लू विश्वकर्मा, गोपाल आदिवासी सहित सैकड़ों लोगों ने टीकाकरण केन्द्र पहुंचकर वेक्सीनेशन कराया। वही ग्राम पंचायत भोपालपुरा में इस समय वैक्सीनेशन के लिए लोगों में बेहद उत्साह देखा जा रहा है वैक्सीनेशन के प्रथम दौर में लौगों में वैक्सीनेशन के प्रति उदासीनता का भाव था और बडे स्तर पर भ्रांतियां फैली हुई थी फिर हाईस्कूल में पदस्थ प्रभारी प्राचार्य आनंद रावत और ग्राम पंचायत के सचिव, सरपंच और समस्त शिक्षको ने लौगों में फैली भ्रांतियां को दूर करने के लिए कार्ययोजना तैयार कर प्रतिदिन डोर टू डोर संपर्क, नुक्कड़ वैठक, खेत खलिहान में संपर्क, बच्चों के माध्यम से अभिवावकों से संपर्क किया । महिलाओं से चर्चा कर उनकी संकायों का समाधान किया जिसके कारण लौगों की वैक्सीनेशन के प्रति समस्त आशंकाए दूर होती जा रही है और वर्तमान में सम्पूर्ण ग्राम में लोगो का वैक्सीनेशन के प्रति बेहद उत्साह है और प्रतिदिन निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति समय से पहले हो रही है सम्पूर्ण अभियान को सफल बनाने में संस्था प्राचार्य आनंद रावत सरपंच जगदीश यादव, सचिव रमेश पटैरिया, राकेश कोरी, फूलचंद रजक, शीलेन्द नापित, सुरेश सैन का विशेष योगदान रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं