Breaking News

कोरोना से मौत के बाद मुआवजा एवं आंकड़े कम करने के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र में अन्य कारण बताना निंदनीय है - अजय सिंह यादव.

 
पलेरा:-यह बेहद दुःखद एवं निंदनीय है की मध्यप्रदेश में सरकार द्वारा इलाज एवं अन्य व्यवस्थाएं उपलब्ध नहीं करवा पाने के कारण प्रदेश में 1 लाख से अधिक नागरिकों की मौत कोरोना की वजह से हो गई है अब मप्र सरकार उन नागरिकों की मृत्यु को कोरोना से मानने के लिए तैयार नहीं है जो मरीज 10-15 दिन महीने भर तक कोविड की वजह से अस्पताल में कोविड वार्ड में भर्ती रहते है जब इलाज के दौरान उन्ही मरीजों की मृत्यु हो जाती है तो मृत्यु प्रमाण पत्र पर कोरोना के बजाय मृत्यु के अन्य कारण बताये जा रहे है जिससे उनके परिजनों को मुआवजा ना देना पड़े साथ ही कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े को कम किया जा सके इस मामले में सरकार को राजनीति नहीं करना चाहिए प्रदेश की सभी नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत एवं  पंचायत स्तर पर जिनकी मौत कोरोना से हुई है उनके परिजन सही मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं इसलिए सरकार को तत्काल व्यवस्था बनाना चाहिए जो भी मरीज कोरोना की वजह से अस्पताल में भर्ती हुए एवं इलाज के दरमियान जिनकी मौत हुई उनकी मौत को कोरोना से होने वाली मृत्यु में माना जाए साथ ही मुआवजे की राशि को भी एक लाख से 5 लाख किया जाए इस तरह से नागरिकों की मौत के साथ राजनीति नहीं होना चाहिए यह बेहद निंदनीय है

कोई टिप्पणी नहीं