Breaking News

राजकीय सम्मान के साथ पूर्व मंत्री राठौर का हुआ अंतिम संस्कार

नम आखो के साथ अपने नेता को दी अंतिम विदाई
 
पृथ्वीपुर- विधानसभा के विधायक और पूर्व केबिनेट मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर का कोविड 19 के चलते भोपाल चिरायु हॉस्पीटल में असमय निधन हो गया है। उनका राजकीय सम्मान के साथ ग्रह ग्राम जेर में अंतिम संस्कार किया गया। 
रविवार को क्षेत्र के विधायक और पूर्व केविनेट मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर का भोपाल में निधन हो जाने के उपरांत उनका पार्थिव शरीर एम्बुलेंस से नगर में लाया गया । जहां निवास पर क्षेत्र भर समर्थको का जमावडा लगा रहा। जैसे ही वह नगर में आये उनके अंतिम र्दानो के लिये लोग एकत्रित थे निवास पर आने के उपरांत उनकी माता को अंतिम र्दान उपरांत उनका पार्थिव शरीर जेर ग्राम स्थित बडे कुआ खेत पर ले जाया गया। जहां अंतिम र्दानो के लिये रखा गया। क्षेत्र भर से आये लोगो ने कोविड 19 के तहत लोगो ने पुष्प अर्पित कर अंतिम र्दान कर अपनी श्रद्वाजलि दी। और उनके पुत्र नितेन्द्र सिंह राठौर के द्वारा रीतिरीवाज के साथ मुखअग्नि दी गई। कोरोना गाइड लाइन के तहत परिजनो ने पीपीई किट पहनकर अंतिम संस्कार सभी रीतिरीवाज पूर्ण किये। और पुलिस के द्वारा 5-1 की गार्ड ने गॉर्ड ऑफ सलामी देकर राजकीय सम्मान से नवाजा गया। और मौके पर पहुचे जिले के पुलिस कप्तान आलोक कुमार सिंह ने उनका राजकीय सम्मान किया। और मौके पर पहुचे अधिकारियो ने भी अपनी श्रद्वा सुमन अर्पित किये। जैसे ही रविवार को उनके निधन की सूचना नगर और क्षेत्र में लगी तो इनके समर्थको सहित लोगो में शोक की लहर दौड गई। अंतिम संस्कार में पहुचे नगर सहित क्षेत्र भर के लोगो ने पुष्प अर्पित कर अपनी श्रद्वाजलि अर्पित की। प्रदे सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ करने के लिये आदेात किया था उसी के तहत जिले के अधिकारियो के द्वारा अंतिम संस्कार किया गया। बृजेन्द्र सिंह राठौर का जन्म जेर ग्राम के स्वंत्रता संग्राम सेनानी स्व. अमर सिंह राठौर दद्दा जी के घर में 1 जनवरी 1958 में हुआ था। और उनके 39 साल के सफर में उन्होने स्नातक स्तर की शिक्षा बुन्देलखण्ड में ही पूरी की। उनका मुख्य व्यवसाय कृषि और पेट्रोलपम्प रहा। सार्वजनिक एवं राजनैतिक जीवन की शुरूआत 1982 में जिला युवक काग्रेंस के महामंत्री के रूप में की थी। 1983 से 1984 तक जनपद पंचायत अध्यक्ष और जिला केन्द्रीय संचालक बैंक के संचालक रहे। 1996 में तेन्दूपत्ता संघ एवं मध्यप्रदे अपाक्स बैंक संघ के संचालक और जिला युवक कांग्रेस के अध्यक्ष बने। 1992 में जिला काग्रेस के कोषाध्यक्ष बने। 1993 में पहलीबार रिकार्ड मतो से निर्दलीय प्रत्याी के रूप में चुनाव जीतकर विधानसभा पहुचे और उसके बाद पुनः 1998 में उन्होने फिर निर्दलीय प्रत्याी के रूप में चुनाव लडा और विधानसभा पहुचे। 2003 में हुये विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस पार्टी के टिकिट पर निवाडी विधानसभा से चुनाव जीता। परिीमन के बाद 2008 में पृथ्वीपुर विधानसभा अलग सीट बनी और यहां से उन्होने फिर कांग्रेस से चुनाव लडा और विजयी हुई। इसके उपरांत 2013 में पृथ्वीपुर विधानसभा से वह भाजपा प्रत्याी से चुनाव हार गये। लेकिन उन्होने क्षेत्र की जनता से मेल मिलाव आना जाना बंद नही किया और वह जनता की नब्ज टटोलने में बहुत माहीर थे लोगो को बातो बातो में मोहित कर लेते थे। 2018 में पुनः हुये विधानसभा के चुनाव में उन्होने पृथ्वीपुर विधानसभा से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुचे और कांग्रेंस के बहुमत पर प्रदे में कमलनाथ की सरकार बनी जिसमें बह केविनेट मंत्री बाणिज्यकर बनाये गये। और उनका सफर निरंतर जारी रहा। उपचुनाव में उन्होने मुरैना में बने प्रभारी के रूप में विधानसभा के प्रत्याी को विजयीश्री दिलाई। इसी विवास पर कमलनाथ ने मध्यप्रदे के दमोह के विधानसभा उपचुनाव के प्रभारी बनाये गये। और वहां का परिणाम उन्होने सुना ही नही उसके पहले ही सभी को अलविदा कह दिया। लेकिन दमोह विधानसभा भी कांग्रेस प्रत्याी अजय टण्डन के रूप में विजयश्री प्राप्त की। बृजेन्द्र सिंह राठौर एक हस मुख और मृदभाषी व्यक्तित्व के धनी थे। उनके पास क्षेत्र भर और नगर से आने वाले लोग अपनी आा भरे कामो के साथ पहुचते थे और वह हमेा लोगो के कार्यो के लिये मौके पर ही निरांकरण कराने में माहिर थे। साथ ही उनके द्वारा क्षेत्र के विकास के लिये ढेरो योजनाऐ लाकर उन्हे संचालित कराया और निरंतर क्षेत्र के विकास के लिये एवं आम लोगो को उनका हक दिलाने के लिये निरंतर प्रयासरत रहते थे गरीब असहाय लोगो की हमेा चिंता करते थे और उन्हे योजनाओ का लाभ दिलाने में कभी कोई कसर नही छोडी। और आज सोमबार को उनके ग्रह ग्राम जेर में नम आखो के साथ क्षेत्र के लोगो और उनके समर्थको ने उन्हे अंतिम विदाई दी। 

कोई टिप्पणी नहीं