Breaking News

मनरेगा कार्यो में चलाई जा रही जेसीव्ही , कार्यवाही की मांग

पृथ्वीपुर। जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत घुरारा जागीर में कोरोना महामारी में सरपंच सचिव और रोजगार सहायक की मिलीभगत से मनरेगा योजना के कार्यो में मजदूरो से कार्य ना कराकर मनमाने तरीके से जेसीव्ही मानो से कार्य कराया जा रहा है। 
कोरोना महामारी के चलते शासन की मांगानुसार ग्राम पंचायत के मजदूरो को ग्राम में ही मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण कर सके। इसके लिये शासन मनरेगा योजना से ढेरो योजनाओ ग्राम पंचायत में संचालित कर रही है। किंतु शासन की मांग अनरूप पंचायत के पदाधिकारियो द्वारा मिलीभगत कर इन शासकीय योजनाओ को ढेगा दिखाया जा रहा है। शुक्रवार को ग्राम पंचायत के मनरेगा पोर्टल पर 290 मजदूरो को ऑनलाईन मनरेगा के पोर्टल पर र्दाया जा रहा है। और मौके पर एक भी मजदूरो से कार्य नही कराया जा रहा है। सरपंच ग्राम रोजगार सहायक एवं सचिव के द्वारा मनरेगा के कार्यो में मानो से कार्य कराकर फर्जी जॉबकार्ड में मजदूरी डालकर राा का आहरण कर लिया जाता है। ग्राम के खेत तालाब येजना के हितग्राही सियाराम यादव, हरीराम, विजय यादव, गोविन्द्र, महेन्द्र, आदि ग्रामीणो ने आरोप लगाया कि उनके कार्य स्वीकृत होने के बाद उन्हे यह पता ही नही कि उनके खेत तालाब में कब निर्माण कार्य होगा। और ग्राम रोजगार सहायक से मजदूरो की डिमाण्ड डालने की बात कही जाती है तो वह टाल देते है। और अपनी मनमर्जी से अपने मनचाहे मजदूरो के खातो में मजदूरी डाल देते है। और फिर राा को निकाल कर राा का वंटरवाट कर लिया जाता है। इस संबध में जब जनपद पंचायत सीईओ शैलेन्द्र सिंह का कहना है कि में अभी क्वारंटाइन हू। जानकारी करवाता हूॅ और माशीनो से कार्य कराया जा रहा है। तो निचित ही कार्यवाही की जायेगी। ग्राम पंचायत में मजदूरो को इस कोरोना महामारी के चलते मजदूरी ना मिल पाने से अपने परिवार का भरण पोषण नही कर पा रहे है। और ग्राम पंचायत के द्वारा उन्हे मजदूरी नही दी जा रही है। साथ ही ग्राम पंचायत के द्वारा फर्जी तरीके से मस्टरोल डालकर शासन की रााशी का वंदरवाट किया जा रहा है। जब पंचायत के सचिव बालादीन अहिरवार से बात की गई तो उन्होने बताया कि में अभी कोविड 19 की व्यवस्थाओ में लगा हुआ हूॅ। और सरपंच तथा ग्राम रोजगार सहायक के द्वारा मिली भगत कर माशीन से कार्य कराया जा रहा है तो उस संबध में उन्हे कोई जानकारी नही है जिसकी शिकायत सचिव के द्वारा जनपद पंचायत में लिखित आवेदन देकर की है। 

कोई टिप्पणी नहीं