Breaking News

नवीन गल्ला मंडी में सरकारी धर्म कांटा खराब होने से किसान परेशान


साढूमल (अमित श्रीवास्तव) ।  तहसील मडावरा के कस्बा में बनी हुई है नवीन गला  मंडी में सरकारी सिस्टम सेटिंग कर व्यापारी और किसान दोनों को चूना लगा रहा है यहां सरकारी कंप्यूटराइज्ड धर्मकांटा कभी सही रहता ही नहीं मजबूर होकर व्यापारियों और किसानों को पास के ही निजी धर्म कांटों का रुख करना पड़ता है इससे जहां लाखों रुपये का फटका कारोबारियों और किसानों को लग रहा है तो वहीं दूसरी तरफ मंडी शुल्क की भी चोरी हो रही है मंडी शुल्क चोरी रोकने को लगवाया था धर्मकांटा वर्ष  2010 में प्रदेश सरकार ने मंडियों में वजन के आधार पर मंडी शुल्क लगाने के लिये सभी बड़ी मंडियों में मुख्य मार्ग पर इलेक्ट्रानिक धर्मकांटे लगवाए थे जिसपर लाखों रुपया खर्च किया गया था मुख्य मार्ग पर धर्मकांटा लगाने के पीछे तर्क था कि मंडी में आने वाला कोई भी वाहन वजन कराकर ही मंडी में जायेगा यह व्यवस्था निशुल्क की गई थी कुछ दिन तक तो धर्मकांटा ठीक चला, लेकिन उसके बाद से धर्मकांटा लगातार खराब रहता है किसान और व्यापारी की जेब पर अतिरिक्त खर्च मंडी में प्रतिदिन सौ से दौ सौ ट्रक ट्रैक्टर पिकअप माल की आवक होती है सरकारी धर्मकांटा खराब होने से व्यापारियों और किसानों की जेब पर अतिरिक्त भार पड़ रहा है वहीं मंडी शुल्क चोरी की बात भी सामने आ रही है दरअसल सारा खेल सेटिंग का है बाहर धर्मकांटे पर एक वाहन के वजन पर डेढ़ सौ से दो सौ रुपये तक का शुल्क अदा करना पड़ता है चूंकि मंडी में कांटा खराब है तो बाहर से आने वाला किसान का अनाज बाहर के कांटों पर तुलवाना कारोबारियों की मजबूरी है इसका सीधा लाभ निजी धर्म कांटा संचालकों को हो रहा है किसान व कारोबारियों का कहना है कि जानबूझकर मंडी का कांटा खराब किया गया है ताकि कारोबारियों को माल तुलवाने के लिए निजी धर्मकांटे पर भेजा जा सके निजी धर्मकांटे की पर्ची पर ही मंडी शुल्क लगता है तो तोल में गड़बड़ी की भी आशंका रहती है मंगलवार को धर्म कांटे की व्यवस्था देखी तो यहां पर ना काेई कर्मचारी बैठा नही मिला ना ही धर्म कांटे पर तौल भी नहीं हो रही थी बताया गया कि 10 सालाे से धर्मकांटा खराब है  प्राइवेट धर्म कांटों के कारण  महरौनी ललितपुर रोड रहता है जाम नवीन मंडी में माल न तुलने के कारण कारोबारियों को रोड पर स्थित अन्य कांटों पर जाना पड़ता है जिससे इस रोड पर अक्सर जाम लगता है  स्थानीय किसान लो अनेक बार शिकायत कर चुकी है पर नतीजा नहीं निकल रहा है हालांकि नवीन गल्ला मंडी में मुख्य मार्ग पर धर्मकांटा लगाए जाते समय मंडी के व्यापारियों ने विरोध भी किया था, लेकिन निशुल्क माल तोलने की बात कहकर व्यापारियों को चुप करा दिया गया था लेकिन सरकारी धर्मकांटा खराब होने के बाद निजी धर्मकांटा संचालकों को ये फायदे का धंधा लगा और अब कई धर्मकांटे निजी तौर पर लग गये हैं नवीन मंडी में मुख्य मार्ग पर इलेक्ट्रानिक धर्मकांटा लगा है सभी हलके भारी वाहन धर्म कांटे से गुजरते हैं मंडी में कई गोदाम हैं भारी ट्रकों के आते जाते रहते हैं  धर्मकांटे में दिक्कत होने के कारण भारी वाहन बिना तोल के ही रवाना हो जाते हैं शिकायत करने के बावजूद भी धर्मकांटा पर्ची बगैर माल मंडी में प्रवेश कर दिया जाता है माल की तोल पर शक होने पर संज्ञान नहीं लिया जाता है धर्म कांटा खराब होने की  मंडी विभाग अपने स्तर से भी सामान की तोल कराते हैँ ।

कोई टिप्पणी नहीं