Breaking News

पुलिस के हत्थे चढ़ा यूपी का गैंगस्टर अजय परिहार

सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव की सूझबूझ से पकड़े गए आरोपी

दो अन्य साथियों के साथ पुलिस ने दबोचा, चार चोरियों का खुलासा

छतरपुर। कोतवाली पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने यूपी के कुख्यात गैंगस्टर अजय परिहार और उसके गिरोह ेके दो साथियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी पायी है। अजय परिहार पर हत्या, हत्या के प्रयास, चोरी, लूट, पुलिस के साथ मुठभेड़, गैंगस्टर एक्ट, नशे की सामग्री का कारोबार, अवैध असलहा रखने जैसे एक दर्जन अपराध दर्ज हैं। यूपी पुलिस को अजय परिहार की तलाश पिछले साल से थी जब वह एक मछली कारोबारी की हत्या करने के बाद पुलिस के साथ मुठभेड़ करते हुए फरार हो गया था। कोतवाली पुलिस के हत्थे चढ़े इस बदमाश गिरोह के सदस्यों ने पूछताछ में छतरपुर शहर में की गई चोरी की चार वारदातों को भी कबूल किया है। इन चोरियों में 21 जनवरी को पूर्व आरटीओ अजय गुप्ता के घर हुई चोरी भी शामिल है। पुलिस ने इन बदमाशों से साढ़े 7 लाख रूपए की चोरी की सामग्री भी बरामद कर ली है। 

शुक्रवार को एसपी सचिन शर्मा, कोतवाली टीआई अरविंद दांगी और आरोपियों को पकडऩे में अहम भूमिका निभाने वाले कोतवाली के सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव ने मामले का खुलासा किया। पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया गया कि पुलिस ने मुख्य आरोपी अजय परिहार उर्फ ब्रजपाल पिता चतुर्भुज खंगार निवासी ग्राम कुरैचा थाना मऊरानीपुर के अलावा उसके दो साथी वीरेन्द्र पिता मत्ती उर्फ मातादीन कुशवाहा व ख्याली पिता चन्द्रभान कुशवाहा निवासी सानापुरा मोहल्ला बेलाताल जिला महोबा को भी गिरफ्तार किया है। 

दिन में करते थे रैकी, रात में हथियारों के साथ चोरी

उक्त आरोपी लंबे समय से छतरपुर में डेरा डालकर खाली मकानों की दिन में रैकी करते थे और रात के समय हथियारों से लैस होकर चोरी के लिए मकानों में घुस जाते थे। 21 जनवरी 21 को उक्त आरोपियों ने क्रिश्चियन इंग्लिश स्कूल के पीछे रहने वाले छतरपुर के पूर्व आरटीओ अजय गुप्ता के खाली घर पर निशाना साधते हुए उनके घर से रिवाल्वर, चार कारतूस, सोने चांदी के जेवरात और मूर्तियों सहित लगभग साढ़े 4 लाख की संपत्ति चेारी की थी। इसके अलावा आरोपियों ने सौंरा रोड पर रघुनंदन बिहार कॉलोनी में रहने वाले वकील रामचरण चौरसिया के यहां भी 14 दिसम्बर 2020 को घर में घुसकर 60 हजार रूपए कीमत की संपत्ति चुराई थी। आरोपियों ने नारायणपुरा रोड पर रहने वाले फिरोज खान के घर से 3 हजार की नगदी और डिपो कॉलोनी महोबा रोड पर रहने वाले ऋषि नायक के घर से भी 60 हजार की संपत्ति चोरी की थी। पिछले लगभग 3 महीने में उक्त आरोपी छतरपुर के चार घरों को निशाना बना चुके थे। आरोपी बेहद शातिर और क्रूर हैं। चोरी के दौरान किसी के सामने आने पर फायरिंग भी करते थे। पुलिस ने इन चारों चोरियों का खुलासा करते हुए अब तक तीन चोरियों की लगभग साढ़े 7 लाख रूपए की सामग्री बरामद कर ली है। 

सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव की सूझबूझ से पकड़े गए आरोपी

उक्त शातिर बदमाशों को पकडऩे में कोतवाली थाना प्रभारी अरविंद दांगी के नेतृत्व में सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव ने कामयाबी दिलाई है। दरअसल पूर्व आरटीओ के घर में हुई चोरी की बड़ी वारदात से कोतवाली पुलिस की जमकर किरकिरी हुई थी। इस मामले की विवेचना सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव के द्वारा की जा रही थी। उन्होंने ही चोरी के बाद आसपास के सीसीटीव्ही कैमरों से वीडियो फुटेज बरामद किए और फिर इन तस्वीरों को अपने मुखबिरों में वितरित कर उक्त वेशभूषा के आरोपियों को पकडऩे के लिए एक जाल बिछा दिया। शुक्रवार की सुबह करीब 4 बजे सब इंस्पेक्टर देवेन्द्र यादव को एक मुखबिर ने उक्त वेशभूषा के आरोपियों की मौजूदगी नारायणपुरा रोड के समीप बताई जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों की घेराबंदी कर उन्हें दबोच लिया। जब आरोपियों को थाने ले जाकर सख्ती से पूछताछ हुई तो न सिर्फ चार चोरियों का खुलासा हुआ बल्कि यूपी का एक फरार गैंगस्टर भी पकड़ा गया। पुलिस शनिवार को उक्त आरोपी न्यायालय में पेश करेगी। 

कोई टिप्पणी नहीं