Breaking News

जनपद पंचायत पलेरा की ग्राम पंचायत बैडरी में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर 2018 में सड़क निर्माण के नाम राशि आहरण करके किया बंदरबांट

 
(मनीष यादव) टीकमगढ़ पलेरा:- मध्यप्रदेश की प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों एवं ग्राम पंचायतों के उन्नयन एवं उत्थान के लिए लाखों करोड़ों रुपए पंचायत के खातों में प्रदेश सरकार डाल रही है विकास के नाम पर पंचायत जब राशि का आहरण कर ले और निर्माण 3 साल बाद कराए तो सवाल यही खड़ा हो जाता है कि जिन पंचायतों को विकास के नाम पर प्रदेश सरकारे पैसा पानी की तरह वहा आ रही है लेकिन जिम्मेदार ही लापरवाह है और बेपरवाह निकले तो पंचायत का विकास तो नहीं सरपंच सचिव और रोजगार सहायक का विकास होना लाजमी है राजेश यादव बताते है कि साल 2018 में खूबचंद यादव के मकान से राजेश यादव के मकान तक ग्राम पंचायत बैडरी द्वारा बखतपुरा गीजर खिरक मोहल्ले में सड़क निर्माण के नाम पर करीब दो लाख सोलह हजार रुपए की राशि का आहरण पंचायत द्वारा किया गया था लेकिन जब शिकायत दर्ज कराई गई तो आनन फानन में पंचायत द्वारा सिर्फ राजेश के मकान पर सीसी डाल दी वही हम आपको बता दें कि कई पंचायतों में जतारा के एवं पलेरा के फर्जी बिल वाउचर लगाकर सीमेंट सरिया का उल्लेख करके राशि आहरण की जा रही है अभी हाल ही में आयकर विभाग ने जनपद पंचायत पलेरा की कई पंचायतों में बिल लगाकर राशि आहरण करने को लेकर टैक्स चोरी करने का मामला सामने आया था जिसमें दुकान को सील किया गया था अदिति ट्रेडर्स कि यहां आयकर विभाग का छापा मार कार्रवाई हुई थी दुकान के कागजात सहित दुकान को सील कर दिया गया था असिस्टेंट कमिश्नर मनीष व्यास के द्वारा यह कार्यवाही की गई थी उन्होंने कहा था कि जीएसटी स्टेट डिपार्टमेंट इंदौर मुख्यालय से जानकारी प्राप्त हुई है कि वेडर के माध्यम से पंचायतों को सप्लाई की जा रही तो वही फर्जी बिल लगाए जा रहे हैं लेकिन जीएसटी के रिटर्न को नहीं दिखाया जा रहा है और लगातार टैक्स चोरी करके आयकर विभाग को चूना लगाया जा रहा है आयकर विभाग की टीम फर्जी तरीके से की जा रही आहरण राशि एवं टैक्स चोरी के मामले को लेकर जांच पड़ताल कर रही है इनका कहना है:-मुझे सड़क की जानकारी नहीं है पहले जीपीआर बन गए थे अब कोई भी सरपंच ऑनलाइन सड़क स्वीकृत कर सकता है मामला पुराना है उस समय ऊपर से अनावश्यक दबाव रहता था सरपंच ने राशि आहरण कर ली होगी मैं मानता हूं लेकिन यदि उन्होंने निर्माण नहीं कराया होगा तो पंचायत पर रिकवरी निकाली जाएगी उस समय में वहां उपयंत्री था लेकिन मैं अब जतारा में हूं वर्तमान में कालीचरन राजपूत सेक्टर प्रभारी है --- हरिओम राय (उपयंत्री)। इनका कहना है:- मुझे सीसी सड़क की जानकारी नहीं है मैं पंचायत एवं सब इंजीनियर से बात करती हूं जांच टीम गठित करके मामले की जांच कराती हूं यदि पंचायत के लोग दोषी पाए जाते हैं तो निश्चित ही दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। आकांक्षा तिवारी ( सहायक यंत्री)

कोई टिप्पणी नहीं