Breaking News

पंचायत सचिव द्वारा आवास के नाम पर पैसा लेने के मामले को जिलाधिकारी ने लिया गंभीरता से । ग्रामीणों की शिकायत पर जांच करने गांव पहुंचे अधिकारी

पंचायत सचिव द्वारा आवास के नाम पर पैसा लेने के मामले को जिलाधिकारी ने लिया गंभीरता से ।
महिलाओं की शिकायत के बाद जिलाधिकारी के निर्देश पर गांव पहुंचे अधिकारी।
डी एम के आदेश पर परियोजना निदेशक ने गांव में चौपाल लगाकर सुनी समस्याएं।
(ललितपुर)-तीन दिन से सुर्खियों में रहे ग्राम जलंधर में आवास के नाम पर पैसा लेने के मामले की हकीकत जानने के उद्देश्य से जिलाधिकारी अन्नावी दिनेश कुमार के निर्देश पर जाँच अधिकारी परियोजना निदेशक बुद्धिराम वर्मा ने बुधवार को ग्राम पंचायत जलंधर पहुंच कर शिकायतकर्ताओं से मुलाकात कर उनकी समस्याओं को सुना इस दौरान शिकायतकर्ता महिलाओं से संबाद करते हुए उनके व्यान दर्ज किये गए।
     उल्लेखनीय है कि सोमवार को ब्लॉक मड़ावरा परिसर स्तिथ एडीओ/ग्राम विकास अधिकारी आलोक कुमार दुबे के कार्यालय पर पहुंची ग्राम पंचायत जलंधर की महिलाओं व् ग्रामीणों ने हंगामा करते हुए सम्बंधित ग्राम विकास अधिकारी पर उनके ग्राम में चयनित आवासों में धांधली करने के साथ ही धन उगाही के आरोप लगाए गए थे जिसमें मामले के तूल पकड़ने पर मौके पर पुलिस को आकर स्तिथि को संभालना पड़ा था बाद में दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर गंभीर आरोप लगाते हुए थाना मड़ावरा में शिकायती पत्र दिए गए थे शिकायतों के आधार पर पुलिस ने सोमवार को एडीओ की शिकायत पर कार्यवाही करते हुए मामला दर्ज कर लिया गया था फिर दबाब बढ़ने पर पुलिस अधीक्षक के आदेश पर महिलाओं के शिकायती पत्र पर कार्यवाही करते हुए प्रभारी एडीओ व् उनके कुछ साथियों पर मामला दर्ज कर लिया गया था वहीं जलंधर निवासी महिलाओं ने मंगलवार को जिलाधिकारी के समक्ष उपस्तिथ होकर कार्यवाही की गुहार लगायी गयी थी जिसको संज्ञान में लेकर जिलाधिकारी अन्नावी दिनेश कुमार के निर्देश पर परियोजना निदेशक बुद्धिराम वर्मा ने ग्राम जलंधर पहुँच शिकायतकर्ताओं का हालचाल लेते हुए मामले की टोह लेने की कोशिश की गयी इस दौरान जाँच अधिकारी ने क्रम बार शिकायतकर्ता महिलाओं से उनका पक्ष सुना जिसमें ज्यादातर सभी शिकायतकर्ताओं के साथ ही अन्य ग्रामीणों ने सम्बंधित ग्राम विकास अधिकारी द्वारा आवासों के नाम पर सुबिधाशुल्क लेने की बात कही साथ ही कुछ ग्रामीणों द्वारा ग्राम में स्वक्ष भारत अभियान के अंतर्गत बनवाये गये शौचालयों में भी घूसखोरी की बात कही गयी।
ग्रामीण महिलाओं ने पैसे  बापिस करवाने की बात की तो दिया उल्टा जबाब-
मौके पर मौजूद ग्रामीण महिलाओं ने जब आवासों के नाम पर लिए गए पैसों को बापिस दिलाने की जाँच अधिकारी से गुहार लगायी तो महोदय सांत्वना की जगह उल्टा जबाब देते हुए कहने लगे की क्या मैने लिए हैं पैसे जिसको दिए उससे मांगो में कहाँ से निकाल दूँ जाँच अधिकारी से जो ग्रामीण न्याय की आस लगाए उपस्तिथ थे वह उनके जबाब से ठगा महसूस करते नजर आये।

जाँच अधिकारी मीडिया के सबालों से कन्नी काटते आये नजर-
जाँच अधिकारी बुद्धि राम वर्मा से जब मौके पर मौजूद पत्रकारों ने मामले के विषय में जानना चाहा तो जाँच अधिकारी सबालों से कन्नी काटते नजर आये सबालों का जबाब न देते हुए मामले को जिलाधिकारी पर टालते नजर आये।

ग्रामीण सचिवालय में व्याप्त गंदगी पर जतायी नाराजगी-
जलंधर जाँच करने पहुंचे परियोजना निदेशक बुद्धिराम वर्मा ने गांव के सचिवालय का निरीक्षण किया तो प्रधान कार्यालय, ग्राम विकास अधिकारी कार्यालय के साथ ही अन्य कक्षों में जानवरों का गोबर भरा पाया गया जिसपर नाराजगी जताते हुए प्रधान प्रतिनिधि वैभव सिंह से मौके पर फैली गंदगी के विषय में जबाब तलब करते हुए शीघ्र ही सफाई व्यवस्था सुद्रण करने के साथ ही ग्रामीणों को सचिवालय में जानवरों को बांधने पर रोक लगाने की बात कही गयी।

कोई टिप्पणी नहीं