Breaking News

टीकमगढ़ के किसानों का आमरण अनशन दिल्ली में जारी



दिल्ली। आज दिनांक 21/12/2020 दिन सोमबार को किसान आंदोलन का नेतृत्व करने वाले शिवकुमार कक्का जी के नेतृत्व में बुंदेलखंड किसान यूनियन, एवं किसान मजदूर महा संगठन, और भारतीय किसान यूनियन के लोगों ने अब जब तक किसान आंदोलन चलेगा तब तक किसान लोग आमरण अनशन पर 24 घंटे के लिए बैठे रहेंगे।
आज आमरण अनशन पर बैठे किसान देवीदीन राजपूत जिला महोबा बुंदेलखंड किसान यूनियन, रामनिवास शर्मा जिला मुरैना किसान सभा, दिनेश कुमार निरंजन बुंदेलखंड किसान यूनियन राष्ट्रीय संगठन मंत्री युवा मोर्चा जिला टीकमगढ़ मध्य प्रदेश, श्री कृष्ण बघेल ग्वालियर अखिल भारतीय किसान सभा, जेके पटेल गुजरात, साहब सिंह ग्वालियर मध्य प्रदेश, रवि दत्त सिंह रीवा, महंगा सिंधु हनुमानगढ़, चौधरी केपी सिंह पलवल, नंदराम गुर्जर खरगोन मध्य प्रदेश राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ, ऋषि पाल चौहान अटोहा भारतीय किसान यूनियन, गंगालाल सौरभ गौडोता भारतीय किसान यूनियन पलवल हरियाणा आदि किसान आज पलवल बॉर्डर एनएच 19 पर आमरण अनशन पर बैठे हुए हैं
शिवकुमार कक्का जी किसान नेता, एवं बुंदेलखंड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा ने कहा कि कल हमारे जो किसान शहीद हो गए थे उनके लिए एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया था एवं पूरे भारत में हर घर में दीपक जलाए गए थे/ आज हमारे किसानों की मांगे पूरी ना होने के कारण हमारे किसान पूरी दिल्ली में लगभग , 28 दिन से लगातार आंदोलन कर रहे हैं/ जब तक हमारे किसानों की मांगें पूरी नहीं हो जाती तब तक पलवल बॉर्डर पर किसानों का आमरण अनशन 24 घंटे यूं ही चलता रहेगा// आज लगभग आमरण अनशन पर 10 से 15 लोग बैठे हुए// इस गूंगी बहरी सरकार को किसानों की सुननी ही पड़ेगी । इस मौके पर मुख्य रूप से शिवकुमार कक्का जी किसान नेता, विमल कुमार शर्मा जी राष्ट्रीय अध्यक्ष बुंदेलखंड किसान यूनियन, गज बदन शुक्ला राष्ट्रीय महासचिव बुंदेलखंड किसान यूनियन, दिनेश कुमार निरंजन राष्ट्रीय संगठन मंत्री युवा मोर्चा जिला टीकमगढ़ मध्य प्रदेश, अभिमन्यु राष्ट्रीय अध्यक्ष युवा मोर्चा किसान मजदूर महासभा, श्रवण कुमार शर्मा वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बुंदेलखंड किसान यूनियन, मुन्नीलाल कुशवाहा, गुलाब बाबा, साईं बाबा, देशराज विश्वकर्मा, रघुनाथ सिंह, मुख्य रूप से एवं भारी संख्या में विभिन्न किसान संगठनों के पदाधिकारी कार्यकर्ता एवं भारी संख्या में किसान मौजूद रहे// अंत में सभी किसानों ने कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक हम यहां से हटने वाले नहीं हैं/ मोदी सरकार को झुकना ही होगा, एवं तीनों कृषि विधेयक काले कानून वापस करना ही होगा।

कोई टिप्पणी नहीं