Breaking News

सौजना गौवंश प्रकरण मामले को जिलाधिकारी ने गंभीरता से लेते हुए दोषियों पर की कार्रवाई । ग्राम पंचायत सचिव लेखपाल पशु चिकित्सा अधिकारी को किया निलंबित ग्राम प्रधान पर कार्रवाई के निर्देश।

सौजना गौवंश प्रकरण मामले को जिलाधिकारी गंभीरता से लेते हुए दोषियों पर की कार्यवाही।

लापरवाह पंचायत सचिव ,लेखपाल ,पशु चिकित्सा अधिकारी को किया निलंबित ग्राम प्रधान पर कार्रवाई के निर्देश।

ललितपुर। सौजना स्तिथ गौशाला में जिम्मेदार लोगों की लापरवाही के चलते हुई गौवंस की हुई मौत के मामले को जिलाधिकारी ने गंभीरता से लेते हुए रात्रि में ही गौशाला का निरीक्षण करने जिलाधिकारी अन्नावि दिनेशकुमार अपर जिलाधिकारी अनिल कुमार मिश्र के साथ सौजना गौशाला का पंहुच गए निरीक्षण में पाया गया कि गौवंश को ठंड से बचाव हेतु अलाव की उचित व्यवस्था नहीं है, साथ ही गौशाला में काऊ कोट भी उपलब्ध नहीं है। गौशाला में बने शेडों पर ठंड से बचाव हेतु पर्याप्त तरपाल नहीं लगाए गए हैं, इसके अतिरिक्त गौशाला की कमजोर गायों को अलग रखने की कोई व्यवस्था नहीं पाई गई। मौके पर जिलाधिकारी ने गौशाला में गौवंशो के ठंड से बचाव हेतु अलाव, काऊ कोट व टीन शेडों पर तरपाल लगवाने तथा अन्य कमजोर गौवंशों को बेहतर चिकित्सा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। निरीक्षण में मिली खामियों यथा गौवंशो को ठंड से बचाने के लिए अलाव की व्यवस्था न करने, कमजोर गौवंशों का अलग से उचित प्रबंधन न करने तथा मृत गौवंशों का उचित निस्तारण न करने के लिए ग्राम प्रधान अजयवीर विक्रम, ग्राम पंचायत अधिकारी सौरभ यादव, लेखपाल घनश्याम दास सेन, पशु चिकित्सा अधिकारी डा. रंजीत कुशवाहा प्रथम दृष्टया दोषी प्रतीत हुए। जिस पर जिलाधिकारी  ने रोष व्यक्त करते हुए ग्राम पंचायत अधिकारी सौरभ यादव, पशु चिकित्सा अधिकारी डा. रंजीत कुशवाहा एवं लेखपाल घनश्याम दास सेन को निलंबित करने, ग्राम प्रधान अजयवीर विक्रम के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश दिए।

कोई टिप्पणी नहीं