Breaking News

भारतीय मूल्यों वाली जीवन शैली पर गर्व की अनुभूति करें हम सभी :प्राचार्य


ललितपुर। उत्तर प्रदेश सरकार एवं उच्च शिक्षा निदेशालय के पत्र के अनुपालन में नेहरू महाविद्यालय में राष्ट्र उन्नायक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के जयन्ती के उपलक्ष्य में त्रिदिवसीय कार्यक्रमों का आज विधिवत समापन हो गया। अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य डा.अवधेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व.अटल बिहारी बाजपेयी हमारे लिए एक शानदार और समृद्ध विरासत छोड़ गये हैं। अगर इसपर मनन किया जाये कि हम उनसे क्या प्रेरणा ले सकते है। इसे अगर एक वाक्य में जानना चाहे तो उसका यही सार होगा कि हम भारतीय मूल्यों वाली जीवन शैली पर गर्व की अनुभूति करें और वेवजह अतिवादी द्वेष से स्वयं को दूर रखें। उन्होंने कहा कि बाजपेयी लोकाचार की समृद्ध विरासत से जुड़ाव रखते थे उसे आज पुन: जीवित करने की जरूरत है। संस्कृत विभागाध्यक्ष डा.ओमप्रकाश शास्त्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री बाजपेयी का जाना एक युग की समाप्ति जैसा है। वह जीवन पर्यन्त ऐसे अजात शत्रु रहे जो दलगत राजनीति से ऊपर उठकर सोचते थे। हिंदी प्रवक्ता डा.सुधाकर उपाध्याय ने कहा कि श्री बाजपेयी का सम्पूर्ण जीवन राष्ट्र के लिए समर्पित रहा। उन्होंने मन, वचन, कर्म से हमेशा अपने कर्तव्य दायित्व का निर्वहन किया। समाजशास्त्र प्रवक्ता डा.सुभाष जैन ने कहा कि श्री बाजपेयी महान राष्ट्रभक्त आधुनिक भारत के सबसे बड़े नेताओं में से एक थे। भारतरत्न बाजपेयी शानदार वक्ता, प्रभावशाली कवि, असाधारण जनसेवक, उत्कृष्ट सांसद व महान प्रधानमंत्री थे। हिंदी प्रवक्ता डॉ. ओ.पी.चौधरी ने कहा कि जीवन में राष्ट्रधर्म प्रमुख है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को राष्ट्र के प्रति समर्पित होना चाहिए। त्रिदिवसीय सम्पन्न हुई भाषण प्रतियोगिता रिति जैन प्रथम, शिवा यादव द्वितीय, धनंजय दुबे तृतीय स्थान पर रहे। प्रश्नमंच प्रतियोगिता में मधुकुमारी प्रथम, शीतल द्वितीय, दीक्षा तृतीय रही। निबंध प्रतियोगिता में स्वाती झा प्रथम, कुमकुम वर्मा द्वितीय, तनुज तिवारी तृतीय स्थान पर रहे। इस अवसर पर डा.अनिल सूर्यवंशी, डा.सुभाष जैन, डा.संजीव शर्मा, डा.सुधाकर उपाध्याय, डा.दीपक पाठक, डा.रामकुमार रिछारिया, डा.शैलेन्द्र सिंह चौहान, डा.प्रीति सिरौठिया, डा.सूबेदार यादव, डा.अरिमर्दन सिंह, डा.ओमप्रकाश चौधरी, डा.राजेश तिवारी, डा.अवनीश त्रिपाठी, डा.विनीत अग्निहोत्री, डा.ऊषा तिवारी, डा.संतोश कुमार शुक्ला, प्रीतम सिंह राजपूत, फहीम बख्श, विवेक पाराशर, धु्रव किलेदार, राजीव गोस्वामी, अंकित चौबे, संजय शर्मा, भगवती प्रसाद सहित छात्र-छात्रायें उपस्थित रहे। संचालन वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी रासेया डा.ओ.पी.चौधरी ने किया एवं अंत में डा.सुधाकर उपाध्याय ने सभी का आभार व्यक्त किया।

कोई टिप्पणी नहीं