Breaking News

मौनी अमावस्या पर निकली मोनियों की टोलियों ने गांव गांव में जाकर किया सैरा नृत्य ।


बारह गांव के देव स्थानों पर श्रृद्धा भाव से नृत्य एवं दर्शन कर पूर्ण किया मौन व्रत ।
ललितपुर । जनपद ललितपुर में रोशनी का महापर्व दीपावली श्रृद्धा एवं उत्साह पूर्वक मनाया गया इस अवसर पर लोगों ने घर घर दीप जलाए दीपों की रोशनी से जगमगाते घरों में मां लक्ष्मी एवं रिद्धी सिद्धी के दाता भगवान गणेश की पूजा अर्चन कर लोगों ने दीपोत्सव का पर्व खुशी खुशी मनाया इस अवसर पर बच्चों ने आतिशबाजी चलाकर  दीपावली के पर्व का खूब आनंद लिया । वहीं सोसल मीडिया पर देर रात तक बधाई संदेश का आदान प्रदान करने का कार्य चलता रहा 
। दीपावली के अवसर पर मौनी अमावस्या पर बुंदेलखंड क्षेत्र में मौनियों की टोलियों द्वारा किया जाने वाला  प्रमुख नृत्यों में सुमार सैरा नृत्य का अपना एक अलग महत्व है । मौनी अमावस्या पर मौन व्रत धारण कर दर्जनों की संख्या युवाओं द्वारा पीले बस्त्रों को धारण कर पीठ पीछे मोर पंखों को बांधकर हाथों में दो दो सैरा खेलने वाले डडा डंडे लेकर ढोल नगाड़ों की धुनपर गांव गांव में जाकर श्रृद्धा एंव उत्साह के साथ सैरा नृत्य किया मौनियों द्वारा किए जाने वाले सैरा नृत्य को देखने के लिए ग्रामीणों में अच्छा खासा उत्साह देखा गया नृत्य को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी ।
लोगों ने मान्यता के अनुसार भगवान कृष्ण के उपासक मौनियों द्वारा बारह गांव के देव स्थानों पर जाकर सैरा नृत्य करके अपना मौन व्रत पूर्ण किया । 
भगवान कृष्ण के उपासक मौनियो द्वारा अमावस्या से सुरू हुए मौनी व्रत धारण करने वाले युवाओं द्वारा श्रृद्धा एंव उत्साह पूर्वक नृत्य किया गया क्षेत्र के प्रमुख धार्मिक स्थलों पर नृत्य करने के बाद परंपरा के अनुसार मौनी बाबा पारौल क्षेत्र में स्थित पंडवन धाम पर पहुंचे मान्यता है की पंडवन धाम में विराजे हनुमान जी महराज के मंदिर प्रांगण में अज्ञात वास के दौरान पांडव यहां रुके थे साथ ही उन्होंने मौनी अमावस्या के दिन मौन व्रत धारण करके यहां पर सैरा नृत्य करके हनुमानजी जी का आशीर्वाद लेकर अपना मौन व्रत पूर्ण किया था । तब से लेकर आजतक पंडवन धाम पर मौनी अमावस्या परमा के दिन नाराहट, डोंगरा खुर्द,मड़ावरा, सैदपुर , बिरधा, पाली क्षेत्र से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पंडवन आकर के भगवान के दर्शन किए साथ ही मौनियों द्वारा मंदिर प्रांगण में भजनों के बीच सैरा नृत्य करके व्रत पूर्ण करके पुण्य लाभ लिया

कोई टिप्पणी नहीं