Breaking News

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मिली गांव में राशन वितरण की जिम्मेवारी


राशन की दुकान के लिए आम सभा में चुना गया संतोषी माता महिला समूह ।

 ललितपुर ।  ग्रामीण अंचलों की महिलाओं को रोजगार से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत स्वयं सहायता समूह का गठन कर उन्हें स्वरोजगार करने के लिए न केवल दक्ष किया जा रहा बल्कि सरकार की बिभिन्न योजनाओं से जोड़कर आजीविका का जरिया बनाया जा रहा। इसी क्रम में सरकार ने जहाँ जहाँ राशन की दुकानें रिक्त चल रहीं थीं वहाँ स्वयं सहायता समूह की दीदीओं को देने का शासनादेश जारी किया । जिसके बाद जिले में रिक्त चल रहीं राशन की दुकानें समूह की दीदीओं को दिलाने के लिए जिला प्रशासन लगा हुआ है।
बिकासखण्ड मड़ावरा के ग्राम बम्होरी कला में भी लम्बे समय से निलम्बित राशन की दुकान सौंरई में अटैच होकर चल रही थी जिससे ग्रामीणों को राशन लेने के लिए 3 किलोमीटर चलकर जाना पड़ता था। अब गाँव में ही समूह की दीदीओं के द्वारा राशन मिलेगा तो ग्रामीणों को सुलभता होगी।
रिक्त चल रही राशन की दुकान के लिये शनिवार को बम्होरी कला के प्राथमिक विद्यालय में खण्ड बिकास अधिकारी दीपेन्द्र पाण्डेय की अध्यक्षता में आमसभा का आयोजन किया गया, ब्लॉक मिशन प्रबन्धक राजबहादुर ने बताया की राशन की दुकान पाने के लिए आरक्षित 7 स्वयं सहायता समूहों ने आवेदन किये जिसमें से पात्र 3 समूहों संतोषी माता, गंगा माता और शिवशंकर में प्रतिबद्धता हुई जिसको लेकर मत के आधार पर चयन करना सुनिश्चित हुआ जिस पर महिलाओं द्वारा कतार लगाकर मत दिए गए जिसमें संतोषी माता स्वयं सहायता समूह को सर्वाधिक डेढ़ सैकड़ा के लगभग मत प्राप्त होते ही उनके नाम प्रस्ताव पास किया गया। आमसभा में जिला खाद्य पूर्ती निरीक्षक, जिला मिशन प्रबन्धक विद्यासागर द्ववेदी, सहायक बिकास अधिकारी पंचायत आलोक दुबे, सहायक बिकास अधिकारी आई एस बी सर्वेश सचान, ग्राम विकास अधिकारी जोधन सिंह, बीजेपी किसान मोर्चा मण्डल अध्यक्ष मुकेश पाल, ब्लॉक मिशन प्रबन्धक राजबहादुर, सुधांशु जैन, मथुरा पाल मौजूद रहे

कोई टिप्पणी नहीं