Breaking News

ग्रामीणों ने पुलिस द्वारा आम जनता के खिलाफ की जा रही फर्जी कार्रवाई पर जताया रोष की नारेबाजी ।

  

ललितपुर (रमेश श्रीवास्तव)  । शनिवार को थाना बांसी पुलिस ने कस्बा बांसी के मुहल्ला ट॔कीपुरा निवासी मोहली वाले के पुत्र रवि के पास तीन तमंचा, एक अध बना तमंचा सहित शस्त्र  बनाने की सामग्री पकड़े जाने का मामला प्रकाश में लाते हुए तमंचा की अवैध फैक्टरी पकड़ने का दावा करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार कर के  जेल भेज दिया था। समाचार पत्रों एवं शोसल मीडिया पर यह खबर आने से टंकीपुरा मुहल्ला वासियों में पुलिस के खिलाफ आक्रोश भडकने लगा। सोमवार की शाम  ग्रामीणों का आक्रोश सड़क पर आ गया । बूढे से लेकर बच्चे तक पुलिस चौकी पंहुचे और पुलिस की मनमानी नहीं चलेगी, पुलिस का अन्याय नहीं सहेंगे के नारे लगाते हुए आक्रोश व्यक्त किया। ग्रामीणों का आरोप था कि पुलिस अपराधियों को पकड़ने में अस्मर्थ है इसलिए बेगुनाहों को फंसाकर अपराधियों को बचाने और नये अपराधी बनाने का अन्याय कर रही है। जिस रवि को पुलिस ने तंमचा अवैध फैक्ट्ररी का संचालक बताया है वह चोरी के मामले में पकड़ा गया था रवि नावालिग और बेहद गरीब है उसका पिता के अलावा उसका कोई नहीं इसी का फायदा उठाकर पुलिस ने शासन स्तर पर गुडबिल बनाने के लिए उसे इस मामले में फंसाकर अपनी पीठ थपथपाई है।  रवि ने मुहल्ले के ही प्रदीप गोस्वामी के यहां चोरी की थी, प्रदीप ने भी चौकी में मुहल्ले वालों के बीच कहा कि उनके यहां चोरी हुयी थी जिसकी लिखित शिकायत उन्होंने चौकी बांसी मे अज्ञात चोर के खिलाफ 9 सितम्बर को की गयी थी, 10 सितम्बर को उसे सुराग मिला की मुहल्ले के ही रवि ने उसकी चोरी की है तो उसने रवि के घर पंहुचर रवि से पूंछा तो रवि ने उसका मोबाइल और रुपये उसे लौटा दिये । इसलिए उसने 10 सितम्बर को रवि को मोबाइल एवं रुपये सहित पुलिस को सौंप दिये थे ताकि पुलिस कार्यवाही कर सके। उसका चोरी का सामान अभी भी पुलिस में है पुलिस ने चोरी की जगह रवि को तमंचा की अवैध फैक्ट्ररी का संचालक बता दिया समाचार पत्रों में यह खबर आने से वह भी हत प्रद है। बांसी पुलिस चौकी में ही तैनात एक पुलिस वाले ने 13 अगस्त को एक बुजुर्ग व्यक्ति के साथ मारपीट करके छह हजार रुपये छीन लेने के मामले में अभी कार्यवाही चल रही है और इस दूसरे मामले में पुलिस चौकी बांसी फिर घिर गयी है । मामला अब उच्चाधिकारियों के पाले में है अब देखना यह है ची गरीब को न्याय मिलता है या नहीं ।

कोई टिप्पणी नहीं