Breaking News

बीते सप्ताह बाईपास रोड पर हुए लूट के आरोपियों को बरगवां पुलिस ने धर दबोचा।



कार्य से लौटते समय त्रिमूला कर्मचारी के साथ हुई थी लूट की वारदात, 5 आरोपी धराए, मोटरसाइकिल, मोबाइल समेत अन्य सामान बरामद
सिंगरौली/बरगवां । बीते सप्ताह बुधवार की रात कार्य से लौट रहे कर्मचारी को *बरगवां थाना क्षेत्र के कनई गडरिया बायपास मार्ग* पर अज्ञात बदमाशों द्वारा लूट लिया गया था। सुनसान इलाके में हुई इस वारदात में आरोपियों ने खुटार निवासी त्रिमूला कर्मचारी की वाहन, मोबाइल, नगदी समेत अन्य चीजें लूट ली थी। जिसके बाद फरियादी ने बरगवां थाना पहुंचकर अपनी आपबीती सुनाई। 
क्षेत्र में किए गए दुस्साहसी प्रयास को गंभीरता से लेते हुए बरगवां निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह  ने पुलिस अधीक्षक बिरेंद्र कुमार सिंह के निर्देशन व अनुविभागीय अधिकारी राजीव पाठक के मार्गदर्शन में विभिन्न टीमें गठित कर ग्राम भलुगढ़, गोंदवाली, बड़ोखर, धरसाडा आदि जगहों में आरोपियों की तलाश जारी कर दी थी। जहां ग्रामीणों से पूछताछ के दौरान मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई की घिन्हा गांव के बब्बू उर्फ बाबूलाल साकेत व उनके साथियों द्वारा मिलकर यह लूट की वारदात को अंजाम दिया गया है। जिसके बाद बरगवां पुलिस ने बाबूलाल के आवास पर छापेमारी कर बाबूलाल पिता रामप्रसाद साकेत को हिरासत में लिया। जहां पूछताछ के दौरान उसने अपना जुर्म कबूल लिया। वहीं उसके पास से लूटी गई हीरो पैशन मोटरसाइकिल क्रमांक MP 66 MD 3972 पुलिस ने बरामद कर ली। वहीं उसकी निशानदेही पर अन्य साथी डगा निवासी सूरज साकेत पिता लल्लन साकेत उम्र 19 वर्ष, रामबली बसोर पिता पंचम बसोर उम्र 45 वर्ष, दुर्गा बसोर पिता सुबेलाल बसोर उम्र 25 वर्ष एवं कृष्णा साकेत पिता हीरालाल साकेत उम्र 19 वर्ष निवासी दादर को धर दबोचा। पुलिस ने उनके पास से चोरी गए *MI6 मोबाइल समेत वोटर आईडी, आधार कार्ड, गेट पास व लुटे गए 2 हजार नकदी* बरामद कर ली। 
लूट की इस वारदात में शामिल सभी पांचों आरोपियों को अपराध क्रमांक 347/20 धारा 392 ताहि के तहत गिरफ्तार कर पुलिस अभिरक्षा में न्यायालय में प्रस्तुत किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।
उक्त कार्यवाही में निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह के साथ उपनिरीक्षक उपेंद्र मणि शर्मा, सहायक उपनिरीक्षक सुरेंद्र यादव, प्रधान आरक्षक संजीत सिंह, रमेश प्रसाद कोल, आरक्षक विवेक सिंह, गणेश रावत, दयाशंकर शर्मा, दिलीप कन्नौज, बृजेंद्र धाकड़, अरविंद रावत, नरेंद्र यादव एवं महिला आरक्षक प्रियंका गुप्ता का सराहनीय योगदान रहा।

कोई टिप्पणी नहीं