Breaking News

लाभार्थियों की सूची से प्रधानमंत्री आवासों का होगा सत्यापन ।


बीमा राशि से बंचित रहे पात्र किसान तो बीमा कंपनी पर होगी एफआईआर ।

ललितपुर। सांसद  अनुराग शर्मा की अध्यक्षता में जनपद के विकास कार्यों एवं किसानों की समस्याओं के सम्बंध में कलैक्ट्रेट सभागार में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में सर्वप्रथम जिलाधिकारी ने सांसद का स्वागत किया, तत्पश्चात बैठक की कार्यवाही प्रारंभ की गई। बैठक में सांसद ने कहा कि रबी की फसल के लिए जनपद ललितपुर का किसान नहरी सिंचाई पर निर्भर है। किसानों द्वारा प्राय: यह शिकायत की जाती है कि नहर का पानी टेल तक नहीं पहुंचता है। टेल तक पानी पहुंचाने के लिए जरुरी है कि नहरों की सिल्ट सफाई करायी जाये। उन्होंने सम्बंधित अधिकारी को निर्देश दिये कि नहरों की सिल्ट सफाई कराकर उसकी फोटो उपलब्ध करायें। इसके लिए मनरेगा कन्वर्जेंस के माध्यम से धनराशि उपलब्ध करायी जाएगी। इसी दौरान सांसद ने उपायुक्त मनरेगा को निर्देशित किया कि मनरेगा के माध्यम से जनपद के ग्रामों में माइक्रोइरिगेशन तथा पात्र लोगों के रोजगार सृजन हेतु मुर्गी पालन/बकरी पालन के शेड/बाड़े तथा जल संरक्षण के लिए स्टोरेज बनाने की दिशा में तेजी से कार्य आगे बढ़ाया जाए। साथ ही ग्रामीण सम्पर्क मार्ग एवं ग्रामीण स्वच्छ पेयजल के कार्यों को मनरेगा के माध्यम से प्राथमिकता के आधार पर कराया जाए। बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की समीक्षा के दौरान बताया गया कि योजना के तहत आवास हेतु 47562 आवेदन प्राप्त हुये थे, जिसमें 9600 आवेदनकर्ता अपात्र पाये गए। इस पर सांसद जी ने कहा कि अपात्र आवेदनों का पुनर्सत्यापन कराया जाए, जिससे कोई भी पात्र व्यक्ति गलती से भी योजना का लाभ पाने से वंचित न रह जाए। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण की समीक्षा के दौरान बताया गया कि 18392 आवेदन थे, जिनमें से 1576 अपात्र पाये गए। इस दौरान सांसद ने कहा कि जनपद में ग्रीनबेल्ट की समस्या का समाधान करने के लिए शासन को पत्र भेजें। साथ ही अपात्र लोगों की सूची उपलब्ध करायें जिससे उनका पुनर्सत्यापन कराया जा सके। इसके उपरान्त बैठक में कोविड मामलों की समीक्षा की गई, इस दौरान सांसद जी ने कहा कि कोविड के लिए जो धनराशि उपलब्ध करायी गई थी, उसको खर्च कर चिकित्सकीय सुविधाओं का उच्चीकरण कराया जाए। उन्होंने कहा कि अस्पताल के लिए उच्च क्षमता का जनरेटर तथा सैनेटरीपैड की मशीन लगवाएं। किसान फसल बीमा की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जनपद में ओरिएन्टल इन्श्योरेंस कम्पनी किसान फसल बीमा का कार्य कर रही है। बीमा कम्पनी द्वारा 137555 कृषकों को 305.93 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है। 4564 कृषकों का भुगतान शेष है। इस पर सांसद जी ने निर्देश दिये कि उक्त कृषकों की सूची उपलब्ध करायें। मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कि यदि कोई भी पात्र किसान बीमा क्षतिपूर्ति की धनराशि से वंचित रहा तो एन्श्योरेंस कम्पनी पर एफआईआर दर्ज करायी जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं