Breaking News

आगामी त्यौहारों में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को ध्यान में रखते हुए ही सभी लोग शासन के निर्देशों का पालन करते हुये आपसी सौहार्द के साथ त्यौहारों को मनायें और प्रशासन का सहयोग करें ।


टीकमगढ़ ।  कलेक्टर  सुभाष कुमार द्विवेदी की अध्यक्षता में टीकमगढ़ जिले में आगामी पर्वाें के संबंध में तथा शासन के निर्देशों के अनुकम में शांति समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में आगामी समय में नवरात्रि पर्व का आरंभ 17 अक्टूबर 2020 से एवं दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन 25 अक्टूबर 2020 एवं चहुल्लुम पर्व 8 अक्टूबर 2020 होने से प्रतिमाओं की स्थापना एवं विसर्जन तथा ताजियों का निकाला जाना एवं विसर्जन करने के संबंध में कानून एवं व्यवस्था तथा कोरोना वायरस के संकमण से बचाव के संबंध में चर्चा की गई। इस अवसर पर विधायक टीकमगढ़ श्री राकेष गिरि गोस्वामी, पुलिस अधीक्षक  प्रशांत खरे, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट  आईजे खलको, अनुविभागीय अधिकारी टीकमगढ़ सौरभ मिश्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  एमएल चैरसिया, जिला कमान्डेंट होमगार्ड  श्रीधर शर्मा, जिला आयुष अधिकारी डाॅ एसके मिश्रा, अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) टीकमगढ़, डीआईओ (हैल्थ), तहसीलदार टीकमगढ़, जिला टीकाकरण अधिकारी, मुख्य नगरपालिका अधिकारी, नगर निरीक्षक कोतवाली टीकमगढ़, सहित संबंधित अधिकारी, विभिन्न सम्प्रदायों के धर्मगुरू, गणमान्य नागरिक, पत्रकारगण तथा शांति समिति के सदस्यगण उपस्थित रहे।
इस दौरान टीकमगढ़ विधायक  राकेश गिरि गोस्वामी द्वारा बैठक में उपस्थित सभी गणमान्य नागरिकों से यह अपील की गई कि वह शासन द्वारा दिये गये दिशा निर्देशों के अंतर्गत ही कार्य करें एवं उनका पालन करें। यदि हम सुरक्षित हैं, तो हमारा परिवार एवं समाज भी सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि आगामी त्यौहारों में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को ध्यान में रखते हुए ही सभी लोग शासन के निर्देशों का पालन करते हुये आपसी सौहार्द के साथ त्यौहारों को मनायंे और प्रशासन का सहयोग करें। श्री गिरि द्वारा कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह सुझाव भी दिये गये है कि दुर्गा पंडाल में दुर्गा माता को प्रसाद का अर्पण पुजारी द्वारा ही किया जाये। पण्डाल स्थल पर प्रसाद वितरण की व्यवस्था नहीं हो तथा हवन के दिन हवन केवल यजमान द्वारा ही किया जाये, पूर्णाहूति में बारी-बारी से सभी लोग शामिल हो सकते हैं। कन्या भोज पण्डाल स्थल पर नहीं हो, भोजन के पैकेट बनाकर कन्याओं को घर-घर बांटे जा सकते हैं।
कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट टीकमगढ़ श्री द्विवेदी द्वारा बैठक में उपस्थित सभी धर्म, पंथ, सम्प्रदाय, धर्मगुरूओं के व्यक्तियों को अवगत कराया गया कि भारत सरकार, गृह मंत्रालय के अनलॉक-4 एवं म.प्र. शासन, गृह विभाग एवं समसंख्यक आदेश के अनुकम में जन सामान्य के स्वास्थ्य हित एवं लोकशांति बनाये रखने के उद्देश्य से दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश पारित किया गया है। म.प्र. शासन गृह विभाग एवं समसंख्यक आदेश द्वारा अतिरिक्त दिशा-निर्देश जारी किये गये है जिसके अनुक्रम में जिले में आदेश पारित किया गया है, जिसमें कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत आगामी त्यौहारों हेतु अतिरिक्त दिशा निर्देश प्रसारित किये गये है। निर्देशानुसार विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर स्थापित की जाने वाली प्रतिमा की ऊँचाई अधिकमतम 6 फिट होगी तथा पंडाल का साईज 10x10 फीट अधिकतम रखा जाये। ताजिये की अधिकतम ऊँचाई 6 फिट होगी। संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट द्वारा सभी मूर्तिकारों को इस संबंध में तत्काल मूर्ति निर्माण के पूर्व आवश्यक रूप से अवगत करा दिया जाए कि प्रतिमा की ऊँचाई 6 फिट या उससे कम रखा जाना बंधनकारी है एवं ताजिये की अधिकतम ऊँचाई 6 फिट रखा जाना बंधनकारी होगा। सामाजिक/सांस्कृतिक एवं अन्य कार्यक्रमों के आयोजन के संबंध में गृह मंत्रालय भारत सरकार के दिनांक 29.8.2020 तथा गृह विभाग, म.प्र. शासन के दिनांक 1.9.2020 के परिपत्रों अनुसार 100 से कम व्यक्तियों की उपस्थिति के आयोजन किये जा सकेगें तथा इसके लिये आयोजक को संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट से पूर्वानुमति प्राप्त करना आवश्यक होगा। कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए किसी भी धार्मिक/सामाजिक आयोजन के लिये चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी साथ ही गरबा के आयोजन नहीं हो सकेंगे। लाउडस्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईडलाइन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। मूर्ति/ताजिये विसर्जन के लिए 10 से अधिक व्यक्तियों के समूह को अनुमति प्रदान नहीं की जायेगी, इसके लिये संबंधिक आयोजकों को पृथक से संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट से लिखित अनुमति पूर्व से प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संक्रमण से बचाव के तारतम्य में झाँकियों, पंडालों, गरबा, विसर्जन के आयोजनों में श्रद्धालुओं द्वारा फेस कवर, सोशल डिसटेंसिंग एवं सेनेटाईजर के प्रयोग के साथ ही तथा राज्य शासन द्वारा समय-समय पर जारी किये गये निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाये। शांति समिति की बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों को उक्त शासनादेशों की प्रतियाँ वितरित की गई।
श्री द्विवेदी द्वारा अपील की गई कि यह विश्वव्यापी महामारी का समय है सामान्य समय नहीं हैं, अभी भी कोरोना संक्रमण से सर्तक रहने की बहुत आवष्यकता है, क्योंकि केस लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि समाज जिम्मेदारी एवं जागरूकता से अपना उत्तरदायित्व समझे तो इसमें काफी परिवर्तन लाया जा सकता है। आप सभी लोग जागरूक हों, मॉस्क, सोशल डिस्टेसिंग संक्रमण से बचाव के लिये जरूरी है, यह समय संवेदनशील है, इसलिये सतर्क रहकर चलना है। साथ ही बुर्जुगों एवं छोटे बच्चों का विशेष ध्यान रखे जाने की जरूरत है। संयमित रहकर त्यौहार मनाये जायें, अखाड़े नहीं निकालें । जैसा कि सभी ने सौहाद्रपूर्ण तरीके से अभी तक जो व्यवस्था में सहयोग किया है उसके लिये आप सभी धन्यवाद के पात्र हंै। हम चाहते हैं कि आप सभी इसी तरह प्रशासन का सहयोग देते रहें यही आपसे अपेक्षा हैं।
पुलिस अधीक्षक श्री खरे द्वारा भी बैठक में उपस्थित सभी सम्प्रदायों के धर्मगुरूओं एवं गणमान्य नागरिकों से यह अपील की गई कि प्रत्येक नागरिक अपनी-अपनी जिम्मेदारी समझे, नये स्थान पर प्रतिमा की स्थापना नहीं की जाये एवं बीच रास्ते में मूर्ति स्थापित नहीं की जाये। साथ ही कोरोना वायरस की जंग को जीतने हेतु पुलिस प्रशासन को सहयोग दें।
इस अवसर पर उपस्थित सभी समुदायों, गणमान्य नागरिकों से सुझाव प्राप्त कर बैठक में निर्णय लिया गया कि मूर्ति/ताजिये की ऊँचाई अधिकतम 6 फिट होगी एवं दुर्गा प्रतिमा पण्डालों की साईज 10x10 की होगी। लाउड स्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईड लाइन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। दिनांक 8 अक्टूबर 2020 को ताजियों का विसर्जन किया जाना है, ताजियों के साथ मात्र 10 व्यक्ति ही जा सकेंगे। इसके लिये संबंधित आयोजकों को पृथक से संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट से लिखित अनुमति पूर्व से प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। ताजियों को विसर्जन हेतु निर्धारित कुण्डों पर लाया जाकर विसर्जन किया जायेगा। ताजिया विसर्जन हेतु 3 बजे दोपहर से शाम 7 बजे तक का समय निर्धारित किया गया। दिनांक 25.10.2020 को दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाना है, जिसमें विसर्जन का समय सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे का निर्धारित किया गया है। निर्धारित तिथियों में ताजिये/प्रतिमाओं का विसर्जन निर्धारित कुण्डों पर किये जाने हेतु मुख्य नगरपालिका अधिकारी टीकमगढ़ आवश्यक व्यवस्था करेगें। विसर्जन कुण्डों पर प्रकाश की व्यवस्था अधीक्षण यंत्री, म.प्र.पू.क्षे.वि.वित. कंपनी टीकमगढ़ द्वारा की जायेगी तथा विसर्जन कुण्डों पर आवश्यकतानुसार बेरिकेटिंग की व्यवस्था कार्यपालन यंत्री लो.नि.वि./पुलिस विभाग द्वारा की जायेगी।

कोई टिप्पणी नहीं