Breaking News

वृद्ध किसान को बहला फुसलाकर जमीन हड़पने का आरोप ।


जमीन खरीद के बदले में खरीददार द्वारा दिया गया चैक हुआ बाउंस ।


ललितपुर (रमेश श्रीवास्तव )।  वृद्ध किसान को बहला-फुसलाकर बेशकीमती जमीन को  हड़प लिया। अब पीडि़त बेची गयी जमीन की धनराशि पाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को विवश है। शहर के मोहल्ला चौबयाना निवासी मन्नू कुशवाहा पुत्र प्यारेलाल कुशवाहा ने इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र भेजते हुये पूरे मामले की निष्पक्ष जांच व विपक्षियों के खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग उठायी है।
शिकायती पत्र में मन्नूलाल कुशवाहा ने आरोप लगाते हुये बताया है कि उसकी जमीन झांसी-सागर हाई-वे राष्ट्रीय राजमार्ग पर आराजी संख्या 6476/1 स्थित है। बताया कि वर्ष 2014 में उक्त जमीन उसके पिता प्यारेलाल कुशवाहा को बहला-फुसलाकर ग्राम गंगारी निवासी जगपाल सिंह, चौबयाना निवासी दीपक इत्यादि ने 1/2 भाग का रजिस्टर्ड इकरारनामा कराया था। इकरारनामा में तयशुदा बीस लाख रुपये की धनराशि आज तक नहीं दी। बताया कि क्रेता द्वारा उसके पिता को पांच लाख रुपये दिये जाने की झूठी बात कही जा रही है, जबकि उसके पिता को पांच लाख रुपये के चैक दिये गये थे, जो कि बैंक में लगाने पर बाउंस हो गये। उसके पिता को दिये गये चैक उसके पास आज भी सुरक्षित हैं। बताया कि वर्ष 2015 में अनुदान का लालच देकर उसके पिता को तहसील ले गये और रजिस्ट्री बैनामा नेहरू नगर निवासी धर्मेंद्र व पवन सिंह, जगपाल सिंह और दीपक के पाम से करा लिया। रुपये देने का बहाना बनाकर उसके हस्ताक्षर करा लिये गये। बताया कि इसकी शिकायत 21 मार्च 2016 में पुलिस अधीक्षक से किये जाने पर उक्त लोगों ने मारपीट कर दी थी। बताया कि दो वर्ष पहले रुपये न मिलने पर शिकायत की तो उक्त लोगों के साथ आये वर्तमान में सत्ता दल के विधायक पुत्र द्वारा रुपये दिलाने की बात कही गयी, जिससे आगे कार्यवाही नहीं की गयी। बताया कि उसके पिता की मृत्यु होने के उपरान्त अब उक्त लोगों द्वारा रुपये देने से इंकार कर दिया है। और उक्त व्यक्ति की नीयत बदल गयी और उसने ही उक्त लोगों से जमीन क्रय कर ली। सत्ता दल के नेताओं के नाम से अब रजिस्ट्री होने के बाद जमीन की धनराशि नहीं मिली है। पीडि़त ने जिलाधिकारी से मामले की निष्पक्ष जांच कराते हुये पीडि़त को न्याय दिलाये जाने की मांग उठायी है।

कोई टिप्पणी नहीं