Breaking News

जंगल विभाग व काचन उद्वहन विभाग की मिलीभगत से कट रहे बेसकीमती सागौन के पेड़।


करीब एक ट्रक लकड़ी का हुआ गोलमाल ।

सिंगरौली । जिला अंतर्गत काचन जलाशय पर स्थित लगे हरे भरे पेड़ सागौन एवं शिसम को सिंचाई विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के द्वारा अवैध रूप से कटाई करा कर व्यापार किए जाने का मामला पर्दाफाश हुआ दिनांक  *03-09-2020* को   रात्रि में विस्वत्र सूत्रों  के द्वारा जल उपभोक्ता संस्था काचन जलाशय  के अध्यक्ष महोदय को खबर दी गई कि काचन जलाशय में लगे सागौन एवं शीसम को सिंचाई विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों व चौकीदारों द्वारा अवैध रूप से कटवाया जा रहा है  सूत्रों घटनास्थल पर पहुंचकर  कटाई कर रहे  लेबरों एवं  चौकीदार लक्ष्मी नाई जो घटनास्थल पर मौजूद था पूछताछ करने  पर उसके द्वारा यह बताया गया कि उक्त  लकड़ी को लालता प्रसाद वैश्य इंजीनियर एवं साहू  के निर्देश पर तथा चौकीदार जगदीश सिंह एवं सुब्बालाल की मिलीभगत कर कटाया जा रहा है यहां तक की इनको किसी का डर नहीं है तभी तो एक सप्ताह से दिनदहाड़े पेडों की कटाई की जा रही है लेकिन विभाग चुपचाप सबकुछ देखने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं किया जाना सवाल खड़े करता है सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि लकड़ी पकडऩे के बावजूद भी आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया।
 उक्त घटना की सूचना थाना बरागवा में  थाना प्रभारी को दिया गया  थाना प्रभारी दलबल के साथ तत्काल घटनास्थल पर पहुंच कर वारदात  को संज्ञान में लिया गया चौकीदारों से पूछताछ कर कार्यवाही शुरू की गई।

इनका कहना है ।
 मामला हमारे सज्ञान मे है मेरे पास आवेदन है जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे उनके ऊपर कार्यवाही की जाएगी।
आर.ए.कौशिक
काचन उद्वहन अभियंता
जिला सिंगरौली


 मामला मेरे संज्ञान मे है मैं जांच के लिए टीम भेज कर जांच करवा रहे हैं जो भी दोषी पाए जाएंगे कार्यवाही की जाएगी।
विजय सिंह
डी .एफ .ओ.
जिला सिंगरौली

कोई टिप्पणी नहीं