Breaking News

पंजाब नैशनल बैंक ललितपुर में कर्मचारियों की मनमानी ग्राहकों के लिए बनी परेशानी ।




लाइन में लगी रहती है जनता प्रभावशाली व्यक्ति बता रहे नियमों को धत्ता ।
ललितपुर । पंजाब  नैशनल बैंक ललितपुर के शाखा प्रबंधक की उदासीनता एवं  कर्मचारियों की मनमानी के चलते बैंक में आने वाले ग्राहकों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है छोटे से कामकाज के लिए ग्राहकों को कई दिनों तक चक्कर काटने पड़ रहे हैं । यहां पर कार्यरत कर्मचारी ग्राहकों की समस्याओं के समाधान की की जगह टरकाने में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे है।
ललितपुर में तुवन चौराहे पर स्थित पंजाब नैशनल बैंक की मुख्य शाखा में लेन देन करने के लिए बड़ी संख्या में ग्राहक ललितपुर शहर के साथ साथ दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्रों से भी आते हैं कुछ समय पहले इस बैंक को जिले का अग्रणी बैंक कहा जाता है पहले के कर्मचारियों ने इस बैंक को अग्रणी बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाई और ग्राहकों की समस्या को भी प्राथमिकता से लेतु हुए समाधान भी कराया लेकिन वर्तमान समय में मौजूद वरिष्ठ शाखा प्रबंधक की उदासीनता के चलते अब बैंक दिनों दिन समस्याओं में अग्रणी होता जा रहा है कभी नैटवर्क का रोना रोया जाता है तो कभी कर्मचारियों की कमी का  अक्सर अपनी सीट से कई कर्मचारी गायब रहते हैं । अगर कोई ग्राहक अपनी समस्या लेकर शाखा प्रबंधक के पास जाता है तो शाखा प्रबंधक समस्या का समाधान तो दूर की बात है सुनने में भी अपनी दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं । नीचे की जगह अक्सर दूसरी मंजिल पर जाकर बैठ जाते हैं जिससे अधिकांश ग्राहक यह सोचकर वापस  लौट जाता है की शाखा प्रबंधक आज बैंक में मौजूद नहीं है । सबसे ज्यादा परेशानी का सामना काउंटर से लेन-देन करने वाले ग्राहकों को करना पड़ रहा है । छुट्टियां होने या त्योहार पर पैसे निकालने वालों की  संख्या बढ़ जाती है लेकिन बैंक में खाता धारकों की जरूरत को देखते हुए कोई प्रबंध नहीं किए जाते एक ही काउंटर पर पैसों का भुगतान किया जाता उस काउंटर पर महिला और पुरुषों की लम्बी लम्बी लाईनें लगी रहती है और अपनी बारी आने का इंतजार करते करते पूरा दिन गुजर जाता है और 
उनका नंबर ही नहीं आ पाता है प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में खाताधारक बिना पैसे निकाले घर लौटने को मजबूर हो जाते हैं ।  बैंक में नैटवर्क नहीं आते तो ग्राहक घंटों इंतजार करते खड़े रहते हैं लेकिन बैंक कर्मचारी अपने निर्धारित समय पर ही उठकर चले जाते हैं ग्राहक  आरज़ू मिन्नतें करता है हमारे साथ मरीज हैं हमें इलाज कराना है इसी तरह के यैसे कई आवश्यक कार्य है जिन्हें लेकर गांव का खाताधारक जिला मुख्यालय तक चलकर आता है विषय परिस्थितियों में कोई खाताधारक बैंक कर्मचारी से अनुरोध करता है बाबूजी मुझे पैसों की सख्त आवश्यकता है तो कांउटर पर बैठा कर्मचारी कहता है पैसों की जरूरत तो सबको है । 
 शाखा प्रबंधक की अपने बैंक के ग्राहकों के प्रति उदासीनता एवं कर्मचारियों की मनमानी के चलते जिले में अग्रणी बैंक का दर्जा प्राप्त पंजाब नेशनल बैंक आज अपने ग्राहकों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर रहा है बैंक में अव्यवस्थाओं का बोलबाला है और कर्मचारियों की मनमानी चरम पर बनी हुई है जिससे बैंक के कई कामकाज प्रभावित बने हुए हैं बैंक में बनाए गए नियम तो सिर्फ आम जनता तक ही सीमित है आम जनता घंटों तक लाइन में ही लगी रहती है और प्रभावसाली व्यक्ति अपने काम काज दूसरे तौर तरीके से जल्द से जल्द निपटा कर चल देते हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं