Breaking News

जल सहेलियों ने वृक्षों को बांधी राखी,घर बैठे मनाया रक्षाबंधन।



मोहनगढ़( राकेश भास्कर) । यदि दिल में भाई बहन के रिश्ते बनाने एवं निभाने की चाहे हो तो किसी को भी अपना समझ कर रिश्ते निभाए जा सकते है । इस कहानी को आज पूरा कर दिखाया मोहनगढ़ क्षेत्र की कुछ ग्रामीण महिलाओं ने  परमार्थ समाज सेवा संस्थान से जुड़ी महिलाए  मोहनगढ़ क्षेत्र  के ग्रामों में प्रकृति को निर्मल  बनाए रखने को लेकर निरंतर प्रयासरत है । परमार्थ समाज सेवी संस्थान विगत 23 वर्षों से जल संरक्षण वन संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण पर निरंतर कार्य कर रही है। परमार्थ समाज सेवी संस्थान मैं  कुछ  दिनों पहले जल सहेलियां चयनित की गई थी जो समाज में घर घर जाकर लोगों को जल संरक्षण एवं वन संरक्षण दोनों  विषय में निरंतर समझाती रहती हैं। लेकिन आज जल सहेलियों के अथक प्रयास से मोहनगढ़ क्षेत्र में  रक्षाबंधन के अवसर पर कुछ अलग ही देखने को मिला जिसे देखकर रक्षा का सही अर्थ समझ में आ गया। जल सहेलियों ने रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर गांव गांव जाकर वृक्षों को रक्षा सूत्र बांधा और क्षेत्र में महिलाओं को समझाया कि वृक्ष हमारे जीवन में किसी भाई से कम नहीं है ।इनकी रक्षा करना भी हमारा कर्तव्य है। यदि हम इनकी रक्षा करेंगे तो निश्चित ही वृक्ष हमारे लिए मददगार साबित होंगे। जल सहेलियों ने कहा कि ज्यादातर बहने  लॉकडाउन की वजह से अपने अपने मायके भाई को राखी बांधने नहीं जा पाई तो वह अपने घर एवं आसपास में लगे वृक्षों को रक्षा सूत्र बांधकर वृक्षों को ही अपना भाई मान सकती हैं। इसलिए क्षेत्र में कई बहनों ने वृक्षों को ही अपना भाई समझ कर रक्षा सूत्र बांधा और उन्हें सुरक्षित रखने का संकल्प लिया । और कहा कि वृक्ष हमारे जीवन में हमारे भाई से कम नहीं है संकटकालीन समय में हर संभव हमारी मदद करते हैं । यह कार्य मोहनगढ़ क्षेत्र के नंदनपुर, कन्नपुर, बनगाय,काटी आदि ग्रामों में किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं