Breaking News

राजस्व कर्मियों से सांठगांठ कर जमीन पर पत्थरबाड़ी कराने का आरोप


पीडि़त ने मुख्यमंत्री व मण्डलायुक्त को भेजा शिकायती पत्र

ललितपुर। तहसील मड़ावरा के ग्राम लिधौरा निवासी बल्लू पुत्र परसुआ अहिरवार ने मुख्यमंत्री एवं मण्डलायुक्त झांसी को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को भेजा। बताया गया कि उसकी आराजी संख्या 132/23/5 का काबिज दाखिल संक्रमणीय भूमिधार है। जिसमें उसकी  मकानियत ट्यूब बेल लगे हुए हैं, जो मानवाधिकार आयोग उत्तर प्रदेश के आदेश अनुसार नक्शे में प्रार्थी तरमीम बनाई गई थी। कि जो शासन के आदेश पर उसे उक्त तरमीम की प्रमाणित प्रतिलिपि राखी को प्राप्त कराई गई थी जिसको असफल करने के उद्देश से तरमीम होने के बाद भी हिरदा, कम्मोदा, दिब्बू, बूटा पुत्र मंजुला आदि के द्वारा एक फर्जी हदबंदी का प्रार्थना पत्र उपजिलाधिकारी मड़ावरा न्यायालय प्रस्तुत किया गया है। जिस पर तत्कालीन एसडीएम के द्वारा शॉर्ट स्लिप आदेश पारित करके विना तरमीम को देखें हुए हदबंदी पुष्ट कर दी जिसकी निगरानी पीडि़त ने आयुक्त झांसी के यहां प्रस्तुत की जो 08 अप्रैल 2020 को एडमिट हो चुकी है जिसकी जानकारी होते हुए भी कानूनगो कालूराम जो कि पूर्व भ्रष्टाचार में लिप्त हैं के द्वारा बिना किसी सक्षम न्यायालय के आदेश पर पत्थर गड्डी कराने के लिए पहुंच गए। पीडि़त ने जब कमिश्नर न्यायालय में अपील की कॉपी दिखाई तो स्थानीय राजस्व कर्मी भड़क गये और गाली गलौज करने लगे। पीडि़त ने न्यायालय सिविल जज सीनियर डिवीजन के यहां मुकदमा नंबर 196 सन 2015 बल्लू बनाम देवीलाल के नाम से विचाराधीन है। जिसमें प्रार्थी को एक स्टे आदेश जारी किया गया था। जिसकी अपील जिला जज 14 सन 2018 बनाम देवीलाल के नाम से विचाराधीन है और एक अन्य मुकदमा बल्लू बनाम पिटवा इसी भूमि के संबंध में न्यायालय सिविल जज जू.डी. के यहां अन्य प्रतिवादीजन के विचाराधीन है। इन सब की सूचना पीडि़त उपजिलाधिकारी मड़ावरा एसडीएम को देकर उक्त लोग कोरोना काल में कम से कम 10 आदमियों को एक ही जीत में बिठाकर आये और पीडि़त की बोई हुई फसल में जरीब डालकर वहां पर नाजायज तौर पर प्रार्थी की जमीन पर कब्जा करने की कोशिश की,और फसल को नष्ट किया। साथ ही प्रार्थी की जमीन पर टपरा डालने की कोशिश की। पीडि़त ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र भेजकर हस्तक्षेप करते हुए कमिश्नर झांसी के द्वारा एडमिट की गई अपील के तारतम्य में कानूनगो एबं लेखपाल एबं दबंगो को गैर कानूनी कार्य करने से रोके जाने की मांग की।

कोई टिप्पणी नहीं