Breaking News

कोरोना संक्रमितों को गुणवत्तापूर्ण दिया जाये भोजन : डीएम


कोर कमेटी की बैठक में प्रतिदिन की जांचों की हुयी समीक्षा ।

ललितपुर( रमेश श्रीवास्तव )। जिलाधिकारी योगेश कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में कोविड-19 कोर कमेटी की बैठक कलैक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई। बैठक में कोविड अस्पतालों की समीक्षा के दौरान बताया गया कि पाली कोविड अस्पताल में कुल 86 मरीज भर्ती हैं। जबकि 14 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। अस्पताल में दवाओं की उपलब्धता पर्याप्त है, मरीजों को पीने के पानी के लिए बिस्लेरी की बोतल दी जाती है। मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि अस्पताल में मरीजों को दिये जा रहे भोजन की गुणवत्ता सही पायी गई है। मोबाइल टीमों द्वारा टेस्टिंग की समीक्षा के दौरान डा.अमित चतुर्वेदी द्वारा बताया गया कि पीताम्बरा एन्क्लेव में मोबाइल टीम द्वारा 150 मरीजों की जांच की गई, जिनमें से 04 मरीज धनात्मक पाये गए हैं। साथ ही कलैक्ट्रेट में टेस्टिंग के दौरान 20 में से 04 मरीज धनात्मक पाये गए हैं। उन्होंने यह भी अवगत कराया कि सीरोंजी में श्रद्धालुओं द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिये गए कि बी.एस.ए. कार्यालय व मण्डी  में 01-01 धनात्मक केस पाये गए हैं, दोनो जगह तीन तक नियमित रुप से सैनेटाइजेशन का कार्य कराया जाए। बैठक में जिला मलेरिया अधिकारी ने अवगत कराया कि 26 कार्यालयों में जांच के दौरान 21 कार्यालयों में मच्छरों के लार्वा पाये गए हैं, इस पर निर्देश दिये गए कि नियमानुसार कार्यवाही करें। मौके पर यह भी अवगत कराया गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में सैनेटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग, डोर-टू-डोर सर्वे आदि के बारे में बैठक कर जानकारी प्राप्त की जा रही है। इसी दौरान जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि यदि गांव में कहीं जल भराव कि स्थिति या अन्य कोई समस्या होती है तो उसकी सूचना कोविड कन्ट्रोल रुम को दें। समस्या होने की स्थिति में सम्बंधित ग्राम के ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने के कहा कि ग्राम पंचायत विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, रोजगार सेवक के साथ प्रतिदिन बैठक करेंगे, तथा इसकी सूचना जिला पंचायत राज अधिकारी को प्रेषित करेंगे। बैठक में जिलाधिकारी ने जनपद की पेयजल व्यवस्था की भी समीक्षा की तथा अधिशासी अभियंता जल संस्थान एवं जल निगम को पेयजल व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिये। बैठक में गौवंश आश्रय स्थलों की समीक्षा के दौरान मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद में 80 प्रतिशत टैगिंग का कार्य हो चुका है। जनपद के आश्रय स्थलों में लगभग 06 लाख गौवंश मौजूद है तथा शासन द्वाररा 06 लाख 54 हजार टीके उपलब्ध कराये गए हैं। इस पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी गौवंशों को टीके लगवाये जायें। साथ ही आश्रय स्थलों पर मौजूद मेडिकल स्टाफ की प्रत्येक सप्ताह जांच करायी जाये। बैठक में यह भी बताया गया कि अब तक 08 रैपिड रिस्पोंस टीमों का गठन किया जा चुका है। साथ ही होम आइसोलेशन में कुल 204 मरीजों को रखा गया है तथा आज के सभी मरीजों को आइडेन्टिफाई किया जा चुका है। इस पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि होम आइसोलेशन को कोई भी मरीज बिना पहचान के न रह जाये। बैठक में अपर जिलाधिकारी अनिल कुमार मिश्र, अपर जिलाधिकारी न्यायिक लवकुश त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार पाण्डेय, अपर पुलिस अधीक्षक बृजेश कुमार सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.प्रताप सिंह, डा.अमित चतुर्वेदी, डा.हुसैन खान सहित अन्य अधिकारी एवं चिकित्सक उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं