Breaking News

लिधौरा थाना प्रभारी को 20 साल से फरार आरोपी को गिरफ्तार करने में मिली सफलता।


टीकमगढ़ /लिधौरा (राकेश भास्कर)।  लिधौरा थाना  पुलिस को  एक बार  फिर मिली  एक बड़ी सफलता टीकमगढ़  पुलिस अधीक्षक  प्रशांत खरे  एवं अनुविभागीय अधिकारी योगेंद्र सिंह भदोरिया के निर्देशन में चलाए जा रहे धरपकड़ अभियान अंतर्गत लगभग 20 वर्ष से कई संगीन अपराधों मैं लिप्त अपराधी कई वर्षों से पुलिस को भेष बदलकर चकमा दे रहा था और  क्षेत्र में  दहशत का  पर्याय बना  हुआ था जो पुलिस के लिए एक चुनौती बनी हुई थी । आज से लगभग 20 वर्ष पहले भगवान सिंह  तनय धन सिंह  कि गिरोह में  यह  अपराधी शामिल था गिरोह में शामिल  अपराधियों ने  20 वर्ष पहले जंगल में लकड़ी काट रहे  8 आदिवासियों  का अपहरण कर बंधक बना लिया  था।घटना की जानकारी जब  पुलिस को मिली तो  पुलिस के द्वारा घेराबंदी की गई  पुलिस के द्वारा निर्दोष आदिवासियों  को छोड़ने की बात कही गई लेकिन यह बात अपराधियों को रास नहीं आई । जिस पर पुलिस और बदमाशों के बीच दोनों तरफ से फायरिंग हुई  जिसमें एक सिपाही के  सिर में गोली लगने के कारण वह शहीद हो गया था। जिसके चलते अपराधी मौके से भागने में सफल हो गए थे। और उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश की सीमा क्षेत्र में लगातार अपना दबदबा और दहशत बनाए हुए थे। गिरोह के ज्यादातर अपराधियों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। उसी गिरोह का शेष अपराधी बलराम अहिरवार उम्र 60 वर्ष किसी घटना की फिराक लगाए कई दिनों से घूम रहा था जिसकी जानकारी क्षेत्र के लोगों के द्वारा  पुलिस को दी जा रही थी उपरोक्त घटना को लिधौरा थाना प्रभारी  हिमांशु भिंडिया ने  तत्परता दिखाते हुए  संज्ञान में लिया और मुखबिर की सूचना मिलने पर आरोपी बलराम अहिरवार  पिता टुडु अहिरवार को मध्य प्रदेश वा उत्तर प्रदेश की सीमा से धर दबोचा । कहते हैं कि अपराधी कितना ही भाग ले एक ना एक दिन उसे अपनी करनी का फल भुगतना ही पड़ता हैं। आखिरकार यही हुआ और  लिधौरा पुलिस द्वारा अपराधी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं