Breaking News

कोविड-19 गाइड लाइन का उल्लंघन करने वालों पर कार्यवाही के निर्देश


कोर कमेटी की बैठक में एडीएम ने अधिकारियों से जाना व्यवस्थाओं का हाल
ललितपुर (रमेश श्रीवास्तव ) । अपर जिलाधिकारी अनिल कुमार मिश्र की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में कोविड-19 कोर कमेटी की दैनिक बैठक आयोजित की गई। बैठक में सर्वप्रथम अपर जिलाधिकारी ने डोर टू डोर सर्विलेंस अभियान के तहत आशा एवं एएनएम द्वारा किए जा रहे सर्वे की समीक्षा की, जिसमें बताया गया की ब्लॉक तालबेहट के ग्राम सारसेड एवं सुनौरी तथा ब्लाक महरौनी के ग्राम सुकुलगुवां एवं नैगुवां में आशा एवं एएनएम द्वारा सर्वे का कार्य नहीं किया जा रहा है। इस पर उन्होंने निर्देश दिए कि बार-बार चेतावनी दिए जाने के बावजूद भी सर्वे के कार्य में लापरवाही बरती जा रही हैं, यह अत्यंत खेदजनक स्थिति है, ऐसे लापरवाह कर्मचारियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर सूचित करें। इसके बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जनपद में टेस्टिंग बूथों पर किए जा रहे एंटीजन टेस्ट की जानकारी देते हुए बताया कि आज रेलवे स्टेशन के टेस्टिंग बूत पर 27, कलेक्ट्रेट में 79, जिला चिकित्सालय में 49, मोबाइल टीम द्वारा 52 तथा मोबाइल टीम चंदेरा द्वारा 43 एंटीजन टेस्ट किए गए हैं, इस पर अपर जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि टेस्टिंग का दायरा बढ़ाते हुए टेस्टिंग बूथों एवं मोबाइल टीमों द्वारा अधिक से अधिक मरीजों को चिन्हित कर जांच की जाए। इसके उपरांत अपर जिलाधिकारी जनपद के कोविड अस्पताल में रखे गए मरीजों को दी जा रही व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि सभी मरीजों को समय पर गुणवत्ता युक्त भोजन, शुद्ध पेयजल एवं समय पर दवाएं उपलब्ध कराई जाए। मरीजों को दिए जा रहे भोजन की गुणवत्ता से किसी भी प्रकार का समझौता ना किया जाए, इस हेतु अभिहित अधिकारी खाद्य सुरक्षा प्रतिदिन भोजन की गुणवत्ता की जांच करें। इसके अलावा साथ कोविड अस्पतालों में अवाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाए तथा प्रतिदिन चिकित्सालयों में रोस्टर के अनुसार सफाई कराते रहें व शौचालय को भी साफ रखें। किसी भी अस्पताल में जलापूर्ति की समस्या नहीं होनी चाहिए। यदि कहीं से भी कोई शिकायत प्राप्त होती है तो तत्काल उसका निस्तारण सुनिश्चित कराएं, इसमें किसी भी प्रकार का विलंब नहीं होना चाहिए। उन्होंने बताया कि जनपद में संदिग्ध मरीजों के चिन्हांकन के लिए मोबाइल एंबुलेंस सेवा का शुभारंभ किया गया है, जिसके माध्यम से संदिग्ध मरीज की सूचना मिलने पर मोबाइल एंबुलेंस टीम  द्वारा तत्काल उस मरीज के समक्ष पहुंचकर उसकी जांच की जाएगी। उक्त के अतिरिक्त उन्होंने भ्रमण टीमों को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद के समस्त प्राइवेट चिकित्सालय, नर्सिंग होम एवं क्लीनिक पर आने वाले मरीजों की सघन निगरानी करें और यदि कोई भी ऐसा मरीज जिसमें खांसी जुकाम बुखार जैसे लक्षण दिखाई दें तो तत्काल उसकी सूचना दे ताकि मोबाइल एंबुलेंस टीम द्वारा मौके पर पहुंच कर उस मरीज की जांच की जा सके। तत्पश्चात अपर जिलाधिकारी ने अपर पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया कि जनपद में बैंकों, राशन की दुकानों, अधिक भीड़ वाले स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कराना सुनिश्चित करें, साथ ही लोगों को इस हेतु जागरूक भी करें। यदि फिर भी कोई व्यक्ति कोविड के नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है तो उसके विरुद्ध कार्रवाई करें। इसके उपरांत उन्होंने विगत 24 घंटे के कोविड परिणाम की समीक्षा की। बैठक में अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) लवकुश त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार पांडेय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रताप सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बृजेश कुमार सिंह, अपर उप जिलाधिकारी रमेश चंद्र, डॉ अमित चतुर्वेदी, डॉ0 राजेश भारती, जिला सूचना अधिकारी पीयूष चंद्र राय सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे

कोई टिप्पणी नहीं