Breaking News

मण्डलायुक्त ने एकीकृत आपदा नियंत्रण केन्द्र से ली जानकारीदूसरे दिन निरीक्षण कर अधिकारियों को दिये निर्देश



बैठक कर अधिकारियों से जानकारी लेते मण्डलायुक्त व जिलाधिकारी


ललितपुर। आयुक्त मण्डल झांसी सुभाष चन्द्र शर्मा द्वारा जनपद प्रवास के दूसरे दिन कलैक्ट्रेट में स्थापित एकीकृत आपदा नियंत्रण कक्ष/कोविड कन्ट्रोल रूम का निरीक्षण किया गया। कन्ट्रोल रूम में उपस्थित कर्मचारियों से कन्ट्रोल रूम के सम्बन्ध में पूछतॉछ कर जानकारी प्राप्त की गयी। अपर जिलाधिकारी न्यायायिक लवकुश त्रिपाठी द्वारा एकीकृत आपदा नियन्त्रण केन्द्र के सम्बन्ध में आयुक्त को विस्तृत जानकारी उपलब्ध करायी गयी। आयुक्त द्वारा मौके पर उपस्थित पुलिस कर्मचारियों से भी उनके कार्यों के सम्बन्ध में जानकारी हासिल की गयी। अपर जिलाधिकारी न्यायायिक द्वारा आयुक्त को अवगत कराया गया कि कन्ट्रोल रूम में आने वाले प्रत्येक फोन कॉल पर तत्काल कार्यवाही की जाती है। कन्ट्रोल रूम में दो शिफ्टों में कार्य किया जाता है। प्रत्येक कॉल का विवरण पंजिका में रखा जाता है तथा प्राप्त शिकायत का निस्तारण उसी दिन कर शिकायतकर्ता से फीडबैक भी लिया जाता है। मौके पर कन्ट्रोल रूम में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों से भी पूछतॉछ कर जानकारी हासिल की गयी। यहां पर बताया गया कि एक चिकित्सक व पॉच कर्मचारी साथ में कार्य करते हैं, कन्ट्रोल रूम में आने वाली शिकायतों को सम्बन्धित विभाग को भेजते हैं तथा निस्तारित होने पर फीड बैक भी प्राप्त किया जाता है। आयुक्त द्वारा मौके पर ही सम्बन्धित अधिकारियों/कर्मचारियों से पॉजीटिव निकलने वाले केसों, उनके फोलोअप तथा शासनादेश के अनुसार ही कार्य किये जाने की समीक्षा की। उन्होंने प्रतिदिन घर जाकर सैम्पलिग/सर्वे करने वाली सर्विलांस टीम की कार्य-योजना के बारे में अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की साथ ही कहा कि कान्टेक्ट टेऊसिंग शत-प्रतिशत सुनिश्चित की जाये। पॉजीटिव केस पाये जाने पर सम्बन्धित क्षेत्र को कन्टेमेन्ट जोन घोषित कर सेनेटाईजेशन के कार्य को गंभीरता से किया जाये। ईओ द्वारा आयुक्त को अवगत कराया गया कि प्रतिदिन सम्बन्धित क्षेत्रों में सेनेटाईजेशन का कार्य किया जा रहा है। जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सेनेटाईजेशन का कार्य करवाया जा रहा है। पुन: आयुक्त द्वारा निर्देशित किया गया कि सम्बन्धित अधिकारीगण सभी कार्यो की प्रतिदिन समीक्षा करें तथा दैनिक आख्या शासन को प्रेषित करें। आयुक्त द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी से सर्वे कर रही टीमों के कार्यो की गहन समीक्षा की गयी तथा निर्देशित किया गया कि होम आईसोलेशन की सूचना मरीजों की सूची सहित सभी जगह भेजी जाये। कोविड अस्पतालों के साथ-साथ अन्य अस्पतालों (कोविड/नॉन कोविड) की भी समीक्षा की जाये तथा सैम्पिल कलेक्शन की सूचना भी ली जाये। शासन के निर्देशानुसार अब केवल सिंप्टोमेटिक मरीजों के ही आरटीपीसीआर सैम्पिल लिये जायेंगे। मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा आयुक्त को अवगत कराया गया कि कल कुल 27 पॉजीटिव केस निकले थे सभी को एम्बुलेंस के माध्यम से लाया गया है। इस पर आयुक्त द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी को  निर्देशित किया गया कि सभी एम्बुलेसों का नियमित सेनेटाईजेशन कराया जाये तथा होम आईसोलेशन के मरीजों से लगातार सम्पर्क में रहें। मौके पर मुख्य चिकित्साधिकारी ने अवगत कराया कि शासन द्वारा निर्देश दिये गए हैं कि पॉजीटिव मरीज के क्लॉज कॉन्टेक्ट का घर पर ही एंटीजन टेस्ट किया जाये व होम आईसोलेशन में रखा जाये, साथ ही यदि रिपोर्ट धनात्मक आती है तो सम्बंधित मरीज को एम्बुलेंस के माध्यम से अस्पताल लाया जाये। इसके उपरान्त आयुक्त ने होम आईसोलेशन में रखे गए मरीजों के घरों की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। आईसोलेशन में रखे गए मरीजों के लिए अलग कमरा व शौचालय पाया गया, साथ ही आसपास के घरों को नियमित रुप से सैनेटाइज किया जा रहा था। इसके साथ ही आयुक्त ने नेहरुनगर का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने लोगों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को सुना। लोगों द्वारा बताया गया कि यहां पर पेयजल की काफी समस्या है, नल कभी कभार ही आते हैं, हैण्डपम्पों से पानी भरना पड़ता है। मौके पर दो हैण्डपम्प खराब अवस्था में पाये गए, साथ ही सी.सी. रोड के किनारे नाली निर्माण होता हुआ पाया गया, जिसमें गुणवत्ताहीन ईंटों का प्रयोग किया जा रहा था। इस पर आयुक्त ने तत्काल कार्य बंद कराते हुए अधिशासी अधिकारी को निर्देश दिये निर्माण में गुणवत्तायुक्त ईंटों का प्रयोग किया जाये, साथ ही अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान को शीघ्र हैण्डपम्पों की मरम्मत कराने हेतु निर्देशित किया गया। मौके पर प्राथमिक विद्यालय नेहरुनगर के एक कक्ष में भारी संख्या में शराब की बोतलों (पौवा) का ढेर पाया गया, मोहल्लेवासियों ने बताया कि शराब पीने वाले आये दिन यहां शराब पीते हैं व स्कूल में ही पौवा फेक देते हैं। मना करने पर मारने पीटने की धमकी देते हैं। इस पर आयुक्त द्वारा पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया गया कि तत्काल ऐसे लोगों के विरुद्ध कार्यवाही करें, साथ ही बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारी विद्यालय की सफाई करवायें। निरीक्षण में सम्बंधित अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं